ताज़ा खबर
 

पीयूष गोयल ने रूस की सड़क को भारत का बता किया पीएम नरेंद्र मोदी का गुणगान, पकड़ी गई होशियारी

इससे पहले भी अमेरिका की तस्वीर को भारत का बताकर वाहवाही लूट चुकी है सरकार।

रेल मंत्री पीयूष गोयल।

अभी कुछ समय पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर अमेरिका-मेक्सिको बॉर्डर की तस्वीर को भारत-चीन का बताया गया था। सोशल मीडिया पर उस तस्वीर के वायरल होने के बाद उसकी हकीकत जब सामने आई तो मंत्रालय को अपनी गलती का अहसास हुआ और उसने तुरंत वो तस्वीर हटा ली। अब एक बार फिर से मोदी सरकार के एक मंत्रालय ने ऐसी ही गलती दोहराई है। इस बार ये कारनामा किया है देश के उर्जा मंत्रालय ने। दरअसल हुआ ये कि केंद्रीय उर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को एक तस्वीर पोस्ट कर दावा किया कि केंद्र की मोदी सरकार की बदौलत हम भारतीय सड़कों को जगमगाने में सफल हो पाए हैं। लेकिन पीयूष गोयल ने अपने दावे में जिस तस्वीर का इस्तेमाल किया वो भारत की नहीं रूस की है। पीयूष गोयल ने रूस की इस तस्वीर को भारत का बताकर अपने ट्वीट में लिखा- सरकार ने 50 हजार किलोमीटर की सड़को को 30 लाख एलईडी लाइट्स से चमकाने का काम कर दिखाया है।

पीयूष गोयल द्वारा इस्तेमाल की गई ये फेक तस्वीर सोशल मीडिया यूजर्स की निगाहों से बच नहीं पाई। जॉय दास नाम के एक यूजॉर ने इस तस्वीर को पकड़ लिया कि ये तो रूस की तस्वीर है। जॉय दास ने इस तस्वीर की सच्चाई बयां करते हुए सरकार पर तंज कसा और ट्वीट किया कि कनाडा में एलईडी लाइट रिप्लेस करने के बाद अब भाजपा ने रूस की लाइट्स भी रिप्लेस कर दीं।

देखते ही देखते जॉय दास का ये ट्वीट वायरल होने लगा। इसे लगभग 2200 लोगों ने रिट्वीट किया। फेक तस्वीर के इस्तेमाल की खबर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल तक भी पहुंची। गोयल को अपनी गलती का अहसास हुआ और उन्होंने तत्काल इस तस्वीर को हटा दिया।

पीयूष गोयल ने अपनी गलती मानते हुए उन्हें तस्वीर की हकीकत बताने वाले लोगों का शुक्रिया करते हुए एक और ट्वीट किया। केंद्रीय मंत्री ने अपने इस ट्वीट में लिखा कि जिस तरह से हम सड़को को रोशन कर रहे हैं उसी तरह सोशल मीडिया तथ्यों को उजागर कर हमें रोशनी दे रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App