scorecardresearch

आप तो गच्चा खा गए चाचा – स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा के राज्यसभा उम्मीदवारों को दी बधाई तो लोगों ने यूं लिए मजे

सपा नेता ने समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की सूझबूझ की तारीफ करते हुए उन्हें बधाई दी है।

Swami Prasad Maurya| Uttar Pradesh| UP STF
सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्या (फोटो : ट्विटर )

समाजवादी पार्टी ने राज्य सभा के लिए अपने तीन उम्मीदवारों का नाम घोषित कर दिया है। यूपी चुनाव में सपा के साथ गठबंधन कर चुनाव में उतरी राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी, (Jayant Choudhary) कांग्रेस छोड़कर आए कपिल सिब्बल और एडवोकेट जावेद अली को अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने प्रत्याशी बनाया है। सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) ने राज्यसभा प्रत्याशियों को बधाई दी। जिस पर लोग चुटकी लेने लगे।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कही यह बात : सपा नेता ने अपनी सोशल मीडिया हैंडल से लिखा कि राज्यसभा में समाजवादी पार्टी की ओर से श्री जयंत चौधरी, वरिष्ठ एडवोकेट व राजनेता श्री कपिल सिब्बल और जावेद अली को प्रत्याशी बनाए जाने पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव जी के राजनीतिक सूझबूझ के इस निर्णय का बहुत-बहुत स्वागत बधाई और धन्यवाद। स्वामी प्रसाद मौर्य के इसी पोस्ट पर लोग कई तरह की प्रतिक्रिया देते नजर आ रहे हैं।

यूजर्स ने यूं लिए मजे : @Bond007Dr नाम केक टि्वटर हैंडल से लिखा गया कि बस 5 साल धन्यवाद ही देते रहना… यही काम बचा है। दीपेंद्र नाम के एक यूजर मजे लेते हुए लिखते हैं कि बेचारे कहीं के भी नहीं रहें। सोमवीर सिंह नाम के एक यूजर पूछते हैं – कैसा लगा होगा यह ट्वीट करते हुए आपको? मीनाक्षी दीक्षित नाम की एक यूजर कमेंट करती हैं – ऐसी ही कुछ सूझ बूझ आपने भाजपा छोड़ते वक्त दिखाई थी।

बृजेश हिंदुस्तानी नाम के एक यूजर ने कमेंट किया, ‘आप तो गच्चा खा गए चाचा जी।’ अविरल सिंह लिखते हैं कि आपको तो यहां भी कुछ नहीं मिला। इससे सही तो बीजेपी में ही थे। मुकेश मिश्रा नाम के एक यूजर ने लिखा कि शास्त्रों में इसे ही चमचागिरी और गुलामी कहां गया है। रविंद्र नाम के एक यूजर ने कमेंट किया – कोई बात नहीं, शायद अखिलेश यादव आपको आजमगढ़ से लोकसभा का उपचुनाव कराना चाहते हो।

यूपी चुनाव से पहले स्वामी प्रसाद मौर्य ने छोड़ दी थी बीजेपी : योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी (BJP) का साथ छोड़कर समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया था। उन्हें सपा ने कुशीनगर के फाजिलनगर सीट से अपना प्रत्याशी बनाया था लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा। अपनी हार पर उनकी ओर से कहा गया था कि वह चुनाव हारे हैं लेकिन हिम्मत नहीं हारे।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.