ताज़ा खबर
 

अपनी मर्जी से नहीं ट्विटर से धमकी मिलने के बाद परेश रावल ने डिलीट किया अरुंधति रॉय वाला ट्वीट

डिलीट किए गए ट्वीट में परेश रावल ने लिखा था, 'आर्मी जीप पर किसी पत्थरबाज़ को बांधने के बजाय अरुंधति रॉय को बांध दो।'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भाजपा सांसद परेश रावल। (Photo: Twitter/SirPareshRawal)

भाजपा सांसद और बॉलीवुड कलाकार परेश रावल ने कुछ दिनों पहले अरुंधति रॉय पर विवादास्पद ट्वीट किया था। इस ट्वीट को लेकर जमकर बवाल हुआ। अब ये ट्वीट परेश रावल के वॉल से गायब है। बताया जा रहा था कि बढ़ते विवाद के चलते बीजेपी सांसद ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया। इस पर बुधवार को एक चिट्ठी के जरिए परेश रावल ने सफाई देते हुए लिखा कि ‘मैंने अपना ट्वीट अपनी मर्जी से जिलीट नहीं किया। मुझे ट्विटर की तरफ से दबाव दिया जा रहा था कि में इसे डिलीट करूं। ट्विटर का कहना था कि अगर मैं अपना ट्वीट डिलीट नहीं करूंगा तो वो लोग मेरा अकाउंट सस्पेंड कर देंगे। इस मजबूरी में आकर मुझे अपना ट्वीट डिलीट करना पड़ा।’ अपनी इस चिट्ठी से परेश रावल अरुंधति पर अपने स्टैंड को लेकर पीछे हटने के मूड में नहीं दिख रहे हैं।

आपको बता दें कि डिलीट किए गए ट्वीट में परेश रावल ने लिखा था, ‘आर्मी जीप पर किसी पत्थरबाज़ को बांधने के बजाय अरुंधति रॉय को बांध दो।’ परेश रावल ने पाकिस्तानी मीडिया की एक कथित खबर पढ़कर यह ट्वीट किया था। जिसमें लिखा था कि लेखिका अरुंधति रॉय ने श्रीनगर में आर्मी के खिलाफ बयान दिया है। हालांकि, इंडियन एक्सप्रेस को जानकारी मिली है कि अरुंधति राय पिछले कई सालों से श्रीनगर नहीं गई हैं।

HOT DEALS
  • Moto Z2 Play 64 GB Fine Gold
    ₹ 16230 MRP ₹ 29999 -46%
    ₹2300 Cashback
  • Honor 7X 64GB Blue
    ₹ 15445 MRP ₹ 16999 -9%
    ₹0 Cashback
परेश रावल ने चिट्ठी लिख कर बताई ट्वीट डिलीट करने की मजबूरी।

इस मामले पर इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए परेश रावल ने कहा था कि उन्हें पता था कि उनके ट्वीट पर हंगामा होगा। बावजूद इसके उन्होंने सब जानते हुए कड़ी भाषा में ही पोस्ट लिखा था ताकि उसका वैसा ही प्रभाव पड़े। परेश रावल के ट्वीट के बाद लोग दो धड़े में बंट गए थे। एक धड़ा परेश के साथ तो दूसरा उनके खिलाफ खड़ा था।

 

परेश रावल, रज़ा मुराद ने फिल्म शुरु होने से पहले राष्ट्रीय गान बजाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया समर्थन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App