scorecardresearch

शुक्र मनाओ अब तक ज़िंदा हो- यासीन मलिक के समर्थन में पाकिस्तान के पूर्व उच्चायुक्त ने किया ट्वीट तो भड़क उठे फिल्ममेकर, दिया ये जवाब

कश्‍मीरी अलगाववादी नेता यासीन मलिक को सजा सुनाये जाने से पहले भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त रहे अब्दुल बासित ने ट्वीट किया है।

terror funding|yasin malik|Kashmir Separatist Leader Yasin Malik
अलगाववादी नेता यासीन मलिक (फोटो सोर्स- एएनआई)

टेरर फंड में दोषी पाए गए यासिन मलिक को इधर सजा सुनाए जाने का इंतजार हो रहा था उधर कई पाकिस्तानी हस्तियों ने भारत की निंदा की। भारत में रहे पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने ट्विटर पर यासीन मलिक के समर्थन में ट्वीट किया तो फिल्ममेकर अशोक पंडित भड़क गए।

अब्दुल बासित ने ट्विटर पर लिखा कि ‘शर्मनाक, भारत की कंगारू कोर्ट  के द्वारा न्यायिक आतंकवाद फैलाया जा रहा है। इसे पहले कि मोदी खुद को फांसीवादी में बदल लें, दुनिया को भारत के सामने उठकर खड़ा होना पड़ेगा। ‘ इस पर प्रतिक्रिया देते हुए अशोक पंडित भड़क गये।

ट्विटर पर अशोक पंडित ने लिखा कि ‘शुक्र मनाओ कि आप अब तक जिंदा हो! जिनको बचाने की कोशिश कर रहे हो वो ही आपको शिकार बनाएंगे!’ एकता टंडन नाम की यूजर ने लिखा कि ‘तुम लोगों ने अतंकवाद की फैक्ट्री खोल रखी है। शर्म पाकिस्तान को आनी चाहिए, वैसे भी 10 साल बाद पाकिस्तान का भी हाल श्रीलंका जैसा होने वाला है। बस रुको और देखो। तुम पर शर्म आती है।’

दिलीप नाम के यूजर ने लिखा कि ‘आराम करो चाचा। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की चिंता करो, आप भारत के मुसलमानों को नागरिकता क्यों नहीं देते, अगर आपको उनकी चिंता है?’ प्रभात ने लिखा कि ‘तुम कौन हो? तुम्हारी कोई हैसियत नहीं है भारत के बारे में बोलने की। शांति से बैठ जाइए।’ ओमप्रकाश ने लिखा कि ‘तू कौन होता है भाई हमारे घर के मामले में दखल देने वाला, वो पाकिस्तानी नहीं है हमारे देश का नागरिक है।’

सुनील अरोरा ने लिखा कि ‘बस पाकिस्तान में भारत जैसा CAA बनाओ और अपने उन सभी लोगों को वापस लाओ जो भारत में पीड़ित हैं।’ जयदीप नाम के यूजर ने लिखा कि ‘आतंकी देश के एक आतंकी का शर्मनाक ट्वीट। अब्दुल बासित मेरे शब्दों पर ध्यान दें, आतंकवादियों की भूमि अगला श्रीलंका होने जा रही है।’

बता दें कि यासीन मलिक पर आपराधिक साजिश रचने, देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने समेत गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल होने और कश्मीर की शांति भंग करने की धाराओं में आरोप तय किए गए थे, जिसे उन्होंने अदालत के सामने कबूल कर लिया था। जिन धाराओं के तहत यासीन मलिक दोषी पाए गये हैं, उसमें अधिकतम मौत की सजा या कम से कम उम्र कैद की सजा का प्रावधान है।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट