ताज़ा खबर
 

पद्मावती का नाम बदलने पर भड़के ट्विटर यूजर्स, बोले- दीपिका की नाक चाहिए थी मगर…

'पद्मावती' पहले एक दिसंबर को रिलीज होने वाली थी, लेकिन राजपूत संगठन करणी सेना द्वारा प्रतिबंध की मांग के बाद इसकी रिलीज टाल दी गई।

फिल्म पद्मावत का एक दृश्य।

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने संजय लीला भंसाली की विवादास्पद फिल्म ‘पद्मावती’ को ‘कुछ बदलावों के साथ’ यू/ए प्रमाणपत्र देने का फैसला किया है और फिल्म-निर्माता से कहा है कि फिल्म का नाम बदलकर ‘पद्मावत’ कर दिया जाए। सीबीएफसी की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, फिल्म में कुछ डिस्क्लेमर देने के लिए कहा गया है, जिसमें एक डिस्क्लेमर सती प्रथा को महिमामंडित न करने के संदर्भ में है। इसके साथ ही फिल्म के गाने ‘घूमर’ में प्रासंगिक बदलाव कर उसे किरदार के अनुरूप बनाने के लिए भी कहा गया है। सीबीएफसी के अध्यक्ष, प्रसून जोशी की उपस्थिति में एक जांच समिति की बैठक गुरुवार को हुई थी। इस विशेष समिति में उदयपुर से अरविंद सिंह, और जयपुर विश्वविद्यालय के डॉ. चन्द्रमणि सिंह और प्रोफेसर केके सिंह शामिल थे। सीबीएफसी के मुताबिक, फिल्म को ‘निर्माताओं और समाज दोनों को ध्यान में रखते हुए संतुलित दृष्टिकोण’ से देखा गया है।

फिल्म को भारत के सिनेमाघरों में दिखाए जाने का प्रमाण-पत्र देने से पहले उसमें कई कट करने और फिल्म का नाम बदलने के लिए कहा गया है। कुछ रपटों के मुताबिक, 26 कट के आदेश दिए गए हैं। फिल्म का अंतिम 3डी आवेदन गुरुवार (28 दिसंबर) को सीबीएफसी को सौपा गया था। बोर्ड ने कहा कि आवश्यक संशोधन कर अंतिम सामग्री सौंपने के बाद प्रमाण-पत्र जारी किया जाएगा।

सेंसर बोर्ड के सुझावों पर सोशल मीडिया में खूब चुटकी ली जा रही हैं। लोग कह रहे हैं कि अगर सिर्फ ‘I’ ही हटाना था तो दीपिका की नाक काटने के ऐलान का क्‍या होगा।

‘पद्मावती’ पहले एक दिसंबर को रिलीज होने वाली थी, लेकिन राजपूत संगठन करणी सेना द्वारा प्रतिबंध की मांग के बाद इसकी रिलीज टाल दी गई। उनका दावा था कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ किया गया है। फिल्म में दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर जैसे सितारे प्रमुख भूमिकाओं में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App