scorecardresearch

ओपी राजभर ने कहा – अखिलेश यादव और मायावती को एक होने की जरूरत, सपा नेता का तंज – ऐसे ढोंगीयों से सावधान रहे विपक्ष

मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के घर ईडी द्वारा हुई छापेमारी पर ओमप्रकाश राजभर (OM Prakash Rajbhar) ने कहा कि यह राजनीति से प्रेरित है।

ओपी राजभर ने कहा – अखिलेश यादव और मायावती को एक होने की जरूरत, सपा नेता का तंज – ऐसे ढोंगीयों से सावधान रहे विपक्ष
सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर। (फोटो सोर्स: @oprajbhar)

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी के मुखिया व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती को एक साथ आना चाहिए। ओमप्रकाश राजभर के इस बयान पर समाजवादी पार्टी के नेता आईपी सिंह ने तंज कसते हुए कहा है कि इनसे सावधान रहने की जरूरत है।

सपा नेता ने यूं कसा तंज

ओमप्रकाश राजभर द्वारा दिए गए बयान पर आई पी सिंह ने लिखा, ‘भाजपा सरकार में शामिल होने की चाल है इसलिए दूर से धमका रहे हैं, जिससे बीजेपी ने जल्दी से सरकार में ले ले। राजभर का कोई ईमान नहीं है, अभी बड़ी सुरक्षा आदित्यनाथ सरकार ने दिया है। 2024 से पहले बीजेपी सरकार का हिस्सा बन जाएंगे, विपक्ष ऐसे ढोंगीयों से सावधान रहें।’

राजभर के बयान पर यूजर्स की प्रतिक्रियाएं

सत्यम यादव नाम की एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि सुर बदले बदले लग रहे हैं। पुष्पेंद्र कुमार लिखते हैं – ये थाली के बैंगन हैं पूरे, ऐसे ही रहा तो इनका खुद का वर्चस्व खत्म हो जाएगा। सत्य प्रकाश श्रीवास्तव नाम के ट्विटर यूजर तंज कसते हुए लिखते हैं, ‘अरे पहले अपनी सोचो, किसके साथ जाओगे।’ अमरजीत नाम के ट्विटर यूजर ने कमेंट किया कि मतलब अखिलेश को इस बार जीरो पर ले जाना चाहते हो, बहुत बड़े वैज्ञानिक मत बनो। पहले अपने बेटे को चुनाव जीता लो।

कौशल दुबे नाम के एक यूजर ने हंसने वाली इमोजी के साथ लिखा, ‘भाई साहब की राजनीति खत्म हो रही है, मीडिया वाले कभी कभी इनके बयानों पर प्रकाश डाल देते हैं।’ अवनी कुमार नाम के एक यूजर ने लिखा कि इस आदमी को खुद पर ही भरोसा नहीं है। मनोज सिंह यादव नाम के ट्विटर यूजर कमेंट किया गया – ओपी राजभर जी पर यह बात लागू नहीं होती है, आज कहीं और कल कहीं किसी और के साथ, परसों का कोई भरोसा नहीं है कहां जाएंगे।

यूपी चुनाव में अखिलेश यादव के साथ थे ओपी राजभर

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में ओमप्रकाश राजभर ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन किया था। चुनाव में गठबंधन की हार के बाद से ही ओपी राजभर अखिलेश यादव के नेतृत्व पर कई तरह के सवाल उठा रहे थे। जिसके बाद उनका गठबंधन टूट गया। जानकारी के लिए आपको बता दें कि ओपी राजभर योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री रह चुके हैं और वह बहुजन समाज पार्टी के साथ भी गठबंधन करके चुनाव लड़ चुके हैं।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट