बुलडोजर कर ले बीजेपी अपना चुनाव चिन्ह – पीएम नरेंद्र मोदी के आरोपों पर अखिलेश यादव ने किया पलटवार

पीएम मोदी ने समाजवादी पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि 2017 से पहले गरीबों की हर योजना में रोड़े अटकाए जाते थे।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath
यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव (फोटो सोर्स – पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह यूनिवर्सिटी का शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि विकास के अभियान में उत्तर प्रदेश आज आगे है। इसके साथ ही उन्होंने समाजवादी पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि पहले की सरकार यहां पर विकास नहीं होने देती थी। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने उनके इन आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा है कि बीजेपी को अपना चुनाव चिन्ह बुलडोजर कर लेना चाहिए।

दरअसल अलीगढ़ पहुंचे पीएम मोदी ने समाजवादी पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि 2017 से पहले गरीबों की हर योजना में रोड़े अटकाए जाते थे। एक-एक योजना लागू करने के लिए दर्जनों बार चिट्ठी लिखनी पड़ती थी। पहले यहां घोटाले होते थे, भ्रष्टाचार चरम पर था। उन्होंने योगी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि आज योगीजी की सरकार ईमानदारी के साथ आगे बढ़ रही है। उनके द्वारा लगाए गए इन आरोपों पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने पलटवार किया है।

अखिलेश यादव से एक प्रेस- कांफ्रेंस में जब उनसे सवाल पूछा गया कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने कल कहा था कि आपकी सरकार में बच्चों के बुखार की दवा नहीं हो पाती थी? जिसपर सपा प्रमुख ने पलटवार करते हुए कहा कि मैं योगी जी से कहूंगा कि वह अपनी आईसाइट चेक कराएं। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी को डायल 100 से डाटा मंगाना चाहिए और चेक करना चाहिए कि अपराध कौन कर रहा है?

उन्होंने योगी आदित्यनाथ पर हमला बोलते हुए कहा कि मैं पीएम मोदी से कहना चाहता हूं कि वह मुख्यमंत्री जी को निर्देश देकर जाएं कि टॉप 10 माफिया उत्तर प्रदेश के कौन हैं? अखिलेश यादव ने पीएम मोदी के 2017 से पहले की स्थिति पर लगाए गए आरोपों पर जवाब देते हुए कहा कि पीएम चाहें तो 2017 के पहले का आंकड़ा देख लें।

इसके साथ ही सपा प्रमुख ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश में समाजवादी सरकार आ रही है। उन्होंने कहा कि सरकार गरीबों की झोपड़ी तोड़ रही है और घरों को नुकसान पहुंचा रही है, इस सरकार को अपना चुनाव चिन्ह भी बुलडोजर रख लेना चाहिए।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट