कश्मीर में ‘टारगेट किलिंग’ पर NC प्रवक्ता ने कहा- मुस्लिमों की मौत पर क्यों नहीं बनीं हेडलाइन, कश्मीरी एक्टिविस्ट बोले- हमारी सरकार नाच-गाने में व्यस्त

कश्मीरी एक्टिविस्ट सुशील पंडित ने कहा कि 370 हटने के बाद ऐसा लगा कि आतंक के खिलाफ जेहाद छेड़ दिया गया है। लेकिन जेहाद केवल बातों तक सीमित रहा। बीजेजी जेहाद कर रहे लोगों का दिल जीतने की कोशिश कर रही है। उनका कहना था कि हमारी सरकार नाच-गाने में व्यस्त है।

jammu kashmir, coronavirus
जम्मू: कोविड-19 मामलों में वृद्धि के चलते कंटेनमेंट ज़ोन में तैनात जवान। (पीटीआई)।

नेशनल कांफ्रेंस प्रवक्ता इफरा जान ने कहा- जब से बीजेपी की सरकार आई है… यह सब ज्यादा बढ़ गया है क्योंकि ला एंड आर्डर फेल हो गया है। उनका कहना था कि टारगेट किलिंग का सिलसिला पिछले एक साल से चल रहा है। 22 सिविलियन की हत्या की जा चुकी है लेकिन उनकी मौत इस वजह से सुर्खियां नहीं बनी क्योंकि वो लोग मुसलमान नहीं थे। उनका कहना था कि बीजेपी का शासन पूरी तरह से फेल हुआ है। बीजेपी केवल चुनाव की जीत हार को लेकर काम कर रही है।


दरअसल, उन्होंने यह बात आजतक के एंकर सईद अंसारी के उस सवाल पर कही जिसमें उन्होंने पूछा था कि अचानक कश्मीर में हिंसा क्यों बढ़ गई है। उनका कहना था कि पाक की रंगो में ही आतंक का लहू बहता है। पड़ोसी देश तालिबान का दोस्त है और वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आता। उनका सवाल था कि पाकिस्तान के हुक्मरानों को यह बात समझ में नहीं आ रही है। आतंकिस्तान के इरादे कब पूरे होंगे। उनका सवाल था कि यह आतंकवाद क्यों नहीं रुक पा रहा है। गरीब प्रवासी मजदूरों को मारकर किसका मतलब हल हो रहा है।

इफरा जान ने कहा कि आर्टिकल 370 को हटा दें तो ये हत्याएं रुक जाएंगी। जब से बीजेपी की सरकार सत्ता में आई है, तब से उनकी नाक के नीचे सब कुछ हो रहा है। लेकिन सरकार कुछ नहीं कर पा रही है। उनका कहना था कि यह लोग किसी को भी मारने की क्षमता रखते हैं। बीजेपी पिछले सात साल से जम्मू-कश्मीर में सत्ता में है। फिर कुछ क्यों नहीं कर पा रही है।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व डीजीपी एसपी वैद्य ने कहा कि पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई का चीफ बदले जाने के बाद से यह सिलसिला बढ़ा है। आईएसआई ने भारत के प्रति पाकिस्तान के लोगों के दिलों में नफरत पैदा की है। इसके चलते ही पाक के छोटे-छोटे लड़के भारत में आकर दहशत गर्दी फैलाते हैं। उनका कहना था कि इस सारे वाकये में कश्मीर के लोगों का नुकसान हुआ है। पिछले 30 सालों में देखा जाए तो बहुत सारे मुस्लिम मारे गए हैं, इसमें शक नहीं।

कश्मीरी एक्टिविस्ट सुशील पंडित ने कहा कि 370 हटने के बाद ऐसा लगा कि आतंक के खिलाफ जेहाद छेड़ दिया गया है। लेकिन जेहाद केवल बातों तक सीमित रहा। बीजेजी जेहाद कर रहे लोगों का दिल जीतने की कोशिश कर रही है। उनका कहना था कि हमारी सरकार नाच-गाने में व्यस्त है। कहीं कोई तरक्की नहीं दिख रही कोई विकास दिखाई नहीं दे रहा है। हमारी सरकार बालीवुड के बादशाह को कश्मीर में नाच गाने के लिए बुला सकती है पर उसके पास आतंकियों के हाथों मारे जा रहे लोगों की लाश उनके घर भेजने को पैसा नहीं है।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
विनोद राय ने मनमोहन सिंह पर बोला हमला, कहा- ‘कांग्रेसी नेताओं ने बनाया था दबाव’
अपडेट