ताज़ा खबर
 

Olga Ladyzhenskaya Google Doodle: गणित के अलावा इस विषय से भी था ओल्गा को लगाव, गूगल ने किया याद

Olga Ladyzhenskaya Google Doodle: गूगल ने गुरुवार (सात मार्च, 2019) को रूसी गणितज्ञ ओल्‍गा लैडिजेनस्काया की 97वीं जन्मतिथि पर खास डूडल बनाया। पीले रंग के डिजाइनर डूडल के बीच ओल्गा की तस्वीर (स्केच) थी। उसमें नीचे इक्वेशन लिखी थी, जबकि ऊपर स्केच के दोनों तरफ अंग्रेजी में गूगल लिखा था।

Olga Ladyzhenskaya, olga ladyzhenskaya age, olga ladyzhenskaya biography, olga ladyzhenskaya quotes, olga ladyzhenskaya status, olga ladyzhenskaya quotes, olga ladyzhenskaya equation, olga ladyzhenskaya in hindi, olga ladyzhenskaya doodle, google doodle, today doodle, olga ladyzhenskaya age newsOlga Ladyzhenskaya Google Doodle: गूगल ने सात मार्च को ओल्‍गा लैडिजेनस्काया की याद में यह डूडल बनाया।

Olga Ladyzhenskaya Google Doodle: गूगल ने गुरुवार (सात मार्च, 2019) को रूसी गणितज्ञ ओल्‍गा लैडिजेनस्काया की 97वीं जन्मतिथि पर खास डूडल बनाया। पीले रंग के डिजाइनर डूडल के बीच ओल्गा की तस्वीर (स्केच) थी। उसमें नीचे इक्वेशन लिखी थी, जबकि ऊपर स्केच के दोनों तरफ अंग्रेजी में गूगल लिखा था। डूडल पर क्लिक करते ही ओल्‍गा के डूडल, उनके काम और गणित की दुनिया में योगदान से जुड़ी जानकारियां खुल कर आ रही थीं। बता दें कि अमेरिकी इंटरनेट सर्च इंजन खास मौकों और दिवसों पर डूडल बनाता रहा है। इसी क्रम में उसने ओल्गा को इस तरह श्रद्धांजलि दी और उन्हें याद किया। जानिए रूसी गणितज्ञ और उनके सफर के बारे में, जिसने न केवल रूस में बल्कि दुनिया भर में उन्हें महान गणिणज्ञों की सूची में शामिल कराया।

ओल्गा का जन्म सात मार्च, 1922 को सोवियत संघ (तब) के कोलोग्रिव शहर में हुआ था। ओल्‍गा जब 15 साल की थी, तब उनके पिता की गिरफ्तार कर हत्या कर दी गई थी। उन्हें तब लोगों का दुश्मन बताया गया था। यहीं से ओल्गा के जीवन में संघर्ष और परेशानियों ने दस्तक देना शुरू किया था। हालांकि, समय और स्थितियों के आगे उन्होंने घुटने नहीं टेके। यही वजह है कि गणित की दुनिया को उन्होंने अहम योगदान दिया, लिहाजा लीनियर और क्वासिलीनियर एलिप्टिक इक्वेशन्स में किए गए काम के लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है। उनके पिता भी गणित के शिक्षक थे, जिनकी वजह से ओल्गा की रुचि इस विषय की ओर बढ़ी थी।

उन्हें भले ही प्रतिभाशाली गणितज्ञ के रूप में दुनिया जानती है, मगर लेनिनग्राद विश्वविद्यालय ने उन्हें दाखिला देने से मना कर दिया था। वजह- उनके ‘परिवार का नाम’ था। पर न ही वह निराश हुईं और न ही उन्होंने हार मानी। आगे वह मॉस्को स्टेट यूनिवर्सिटी पहुंचीं, जहां से पढ़ाई की। हालांकि, 1953 में उन्हें लेनिनग्राद विवि में दूसरा मौका मिला। दरअसल, 1952 में जोसेफ स्टालिन की मृत्यु हो गई थी, जिसके बाद सोवियत संघ का मुखिया बदल गया था। लेनिनग्राड विवि में थीसिस पेश करने के बाद उन्हें वहां डिग्री मिली, जिसके बाद उन्होंने कुछ विवि में पढ़ाया भी।

2018 में खूबसूरती से जुड़ी यह चीज सबसे अधिक गूगल की गई, जानें

ओल्गा की शादी कम उम्र में ही हो गई थी। पति से बच्चा पैदा करने पर उनका मनभेद था, लिहाजा पूरी जिंदगी उन्होंने अकेली रहने का फैसला ले लिया। हुआ यूं कि 1947 में ग्रैजुएशन पूरा करने के बाद वह लेनिनग्राद पहुंचीं। वहां पढ़ाई के बीच उनकी रुचि मैथमेटिकल फिजिक्‍स में पनपी। उसी साल नंबर थ्‍योरी एक्‍सपर्ट और मैथमेटिक्‍स के इतिहासकर आंद्रे एलेक्‍सेविच से उनकी शादी हुई। दोनों के संबंध मधुर थे, पर आंद्रे बच्‍चे चाहते थे, जबकि ओल्‍गा सारी जिंदगी गणित के नाम करना चाहती थीं। ऐसे में वे अलग हो गए और ओल्‍गा सारी जिंदगी अकेली रहीं। उनके बारे में अधिक पढ़ने के लिए Olga Ladyzhenskaya Google Doodle पर क्लिक करें।

Next Stories
1 टिम कुक को टिम एप्‍पल बोल गए डोनाल्‍ड ट्रंप, फुटेज पर मजे ले रही दुनिया
2 VIDEO: राफेल पर बहस में जदयू नेता ने विरोधियों को कहा ‘देशद्रोही’, एंकर ने सुना दी खरी-खोटी
3 Olga Ladyzhenskaya Google Doodle: इस महिला ने ऐसा क्या किया, जो गूगल ने डूडल बनाकर किया याद
आज का राशिफल
X