इनको चुप कराएं इनसे मुझे कानून सीखने की जरूरत नहीं – बोलीं नूपुर शर्मा, लाइव डिबेट में AAP प्रवक्ता पर साधा निशाना

बीजेपी प्रवक्ता ने आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आतिशी पर भड़कते हुए कहा कि आप चुप हो जाइए। मुझे आपसे कानून सीखने की जरूरत नहीं है।

News Debate, Hindi News
BJP प्रवक्ता नूपुर शर्मा (फोटो सोर्स – सोशल मीडिया)

दिल्ली में एक 9 साल की बच्ची से रेप और हत्या के मामले पर चल रही एक न्यूज़ डिबेट के दौरान भाजपा प्रवक्ता ने विपक्षी पार्टियों पर राजनीति करने का आरोप लगाया। बीजेपी प्रवक्ता ने आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आतिशी पर भड़कते हुए कहा कि आप चुप हो जाइए। मुझे आपसे कानून सीखने की जरूरत नहीं है।

न्यूज़ 18 इंडिया चैनल के शो ‘आर – पार’ में चल रही डिबेट के दौरान बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने अपनी बात की शुरुआत करते हुए कहा कि, ‘ मैं आतिशी जी से एक सवाल करना चाहती हूं कि आपके अधीन दिल्ली पुलिस नहीं आती है, इसीलिए आपने निर्भया के रेपिस्ट को….जो नाबालिग था उसे आपने 15 हजार रुपए और सिलाई मशीन दी?’ इस पर आम आदमी पार्टी की प्रवक्ता आतिशी ने जवाब देते हुए कहा कि यह आपकी पार्टी का बनाया हुआ कानून है आप उसे बदल सकती हैं।

उनकी इस बात पर नूपुर शर्मा ने भड़कते हुए कहा कि मुझे इनसे कानून नहीं सीखना है। उन्होंने एंकर अमीश देवगन से आतिशी को चुप कराने के लिए कहा कि, ‘ अमिश जी आप इन्हें चुप कराएं… मैन के ऊपर नहीं बोल रही हूं। यह तरीका सही नहीं है।’ उनकी इस बात पर आम आदमी पार्टी की प्रवक्ता आतिशी ने उनको रोकते हुए कुछ बोलना चाहा तो नूपुर ने उनको रोकते हुए कहा कि, ‘ मैडम आपको कानून समझा दूं…. मैडम जरा आप कानून भी पढ़ा करिए।’ आतिशी ने अपनी बात रखते हुए कहा कि यह आरोप-प्रत्यारोप का समय नहीं है।

वहीं नूपुर शर्मा ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मुझे आप कानून मत पढ़ाइए। वह कानून हमारी नहीं बल्कि कांग्रेस सरकार ने बनाया था। अगर आप चाहती तो अपनी राजनीति न चमकाने के लिए 15 हजार रुपए निर्भया के बलात्कारी को न देती। इस पर आतिशी ने जवाब देते हुए कहा कि केंद्र में आप की सरकार है बदल दीजिए कानून। आतिशी द्वारा बीच में टोका टाकी करने पर नूपुर शर्मा ने नाराजगी जताते हुए कहा कि अमिश जी यह ठीक नहीं है।

इस पर शो के एंकर अमिश देवगन ने आतिशी से कहा कि आप मेरा निवेदन स्वीकार करिए, उनकी बात खत्म होने पर आप अपनी बात कहिए। डिबेट के इस वीडियो पर तमाम ट्विटर यूजर ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी है। एक ट्विटर अकाउंट से कमेंट आया कि सबसे पहले दिल्ली पुलिस के इन लापरवाह और असंवेदनशील पुलिस पर पॉक्सो एक्ट लगे। वहीं एक यूजर ने लिखा के आखिर में इस डिबेट का मतलब क्या निकला?

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट