ताज़ा खबर
 

बुरहान वानी नहीं, 22 साल के उमर हैं कश्‍मीर के हीरो, जो देश पर हो गए कुर्बान

संजय पांडे ने लिखा, ''कोई क्यों शहादत देगा उस देश के लिए जहां शांति से दो गज जमीन भी मयस्सर ना हो। बर्दाश्त की भी हद होती है।''

Ummer Fayaz, Lt. Ummer Fayaz, Indian Army, Burhan Wani, Kashmir Hero, Ummer Fayaz Hero, Killing of Lt. Ummer Fayaz, Jawaharlal Nehru University, JNU New Delhi, Kashmir Violence, Hindi news, Kashmir Newsफयाज को पूरे सैनिक सम्‍मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। (Source: Twitter)

जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंकियों की कायराना हरकत में मारे गए सेना के युवा अफसर लेफ्टिनेंट उमर फयाज को देश सलाम कर रहा है। ट्विटर पर #UmmerFayaz बुधवार सुबह से टॉप ट्रेंड्स में शामिल है।उमर को ‘भारत का हीरो’ बताते हुए श्रद्धांजलि दी जा रही है। कश्‍मीर में पिछले कई महीनों से हिंसा चल रही है। हिजबुल आतंकी बुरहान वानी को पिछले साल सुरक्षा बलों द्वारा मार गिराए जाने के बाद से ही घाटी में तनाव है। पाकिस्‍तान की ओर से संघर्ष-विराम उल्‍लंघन और आतंकियों की घुसपैठ में भी बढ़ोत्‍तरी आई है। ट्विटर यूजर्स ने उमर फयाज को ‘कश्‍मीर का हीरो’ करार दिया है और कहा कि ‘महज 23 साल की उम्र में देश के लिए जान देने वाले फयाज ने भगत सिंह जैसा उदाहरण पेश किया है।’ फयाज के जनाज़े पर कुछ कश्‍मीरियों ने पत्‍थरबाजी की तो लोगों का गुस्‍सा फूट पड़ा। संजय पांडे ने लिखा, ”कोई क्यों शहादत देगा उस देश के लिए जहां शांति से दो गज जमीन भी मयस्सर ना हो। बर्दाश्त की भी हद होती है।”

फयाज का शव बुधवार सुबह गोलियों से छलनी मिला। वे एक पारिवारिक विवाह समारोह में शामिल होने गए थे, जहां से आतंकवादियों ने उन्हें अगवा कर लिया था। सेना ने अधिकारी को श्रद्धांजलि देते हुए उनकी हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाने की शपथ ली है। सेना के प्रवक्‍ता ने कहा, ”सेना इस वीर को सलाम करती है और दुख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिवार के साथ खड़ी है। साथ ही उनकी हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाने की शपथ लेती है।”

देखें ट्विटर पर यूजर्स ने क्‍या कहा:

Next Stories
1 हाइवे पर शख्स को ‘अनचाहा गिफ्ट’ दे गया बाज, वायरल हुआ वीडियो
2 कॉन्ट्रोवर्सी और जस्टिन बीबर का है पुराना रिश्ता, देखिए वो पल जब कैमरा पर बिगड़ गए सिंगर
3 वीडियो: 15वीं मंजिल से कूदने वाली थी लड़की, आग बुझाने वाले की बहादुरी से बची जान