scorecardresearch

अखिलेश यादव और चंद्रशेखर आजाद के बीच क्यों बिगड़ी बात? भीम आर्मी चीफ ने बताई इनसाइड स्टोरी

भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर ने बताया कि समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर अखिलेश यादव से क्या बात हुई और कहां बात अटकी गई।

Chandrashekhar Azad Ravan, Chief of Bhim Army
भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद (Express Archive Photo)

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव छोटे-छोटे दलों को साथ लेकर बीजेपी का मुकाबला करने मैदान में उतरे हैं। चुनाव शुरू होने से कुछ दिन पहले आजाद समाज पार्टी के मुखिया चन्द्रशेखर आजाद भी सपा के साथ गठबंधन की कोशिश करने लगे लेकिन बात नहीं बन पाई। चन्द्रशेखर ने यहां तक कह दिया कि अगर अखिलेश भैया मुझे छोटा भाई बोलकर अपने साथ बुला लें तो मैं पूरी क्षमता के साथ, साथ देने के लिए तैयार हूं। हालांकि अंदर की बात ये है कि सीट बंटवारे को लेकर दोनों में बात नहीं बन पाई तो गठबंधन भी नहीं हुआ। वहीं अब चन्द्रशेखर ने अखिलेश यादव के साथ हुई बातचीत के बारे में जानकारी दी है।

अखिलेश यादव से क्या हुई बात?: क्विंट हिंदी से बातचीत के दौरान चन्द्रशेखर ने बताया कि अखिलेश जी ने मुझसे पूछा था कि चुनाव लड़ने का मन है? मैंने कहा- नहीं, अगर आपको लड़ाने का मन है तो आप वहां से लड़ा दीजिये, जहां से योगी आदित्यनाथ लड़ रहे हैं। मैं समझता हूँ कि व्यक्ति भूखा रह सकता है लेकिन अपमानित होकर नहीं। ये लड़ाई स्वाभिमान, सम्मान और अभिमान की है।

सपा के साथ गठबंधन पर क्यों नहीं बनीं बात?: चन्द्रशेखर ने आगे कहा कि मैं साढ़े 25 प्रतिशत दलितों के सम्मान की सुरक्षा करना जानता हूं। मैं देश की सुरक्षा करना जानता है। ये लड़ाई देश की बचाने की थी क्योंकि केंद्र सरकार का रास्ता उत्तर प्रदेश से ही होकर जाता है। इस पर उनसे एक सवाल और पूछा जाता है कि क्या आप योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए तैयार थे? इस पर चन्द्र शेखर ने कहा कि अखिलेश यादव से पूछ लीजियेगा। मैंने कहा था कि अगर आप मुझे चुनाव लड़ाना चाहते हैं तो वहीं से लड़ाईए, जहां से बीजेपी के सबसे ताकतवर व्यक्ति (योगी आदित्यनाथ)चुनाव लड़ रहे हैं।

हिस्सेदारी मांगी थी, विधायक और मंत्री नहीं’: इसके अलावा चन्द्रशेखर ने अखिलेश यादव पर धोखा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी को रोकने के लिए मैं पूर्ण रूप से समर्पित हूं। इसके लिए पांच सीटों पर भी समझौत करने को तैयार हूं। ये बात ऑन-रिकॉर्ड है। मीडिया कहेगी तो सबूत भी दिखा दूंगा। चन्द्रशेखर ने आगे कहा कि समाजवादी पार्टी ने जिसके साथ भी गठबंधन किया, उनको हिस्सेदारी दी। मैं विधायक बनने और मंत्री पद के लिए नहीं गया था बल्कि अपनी पार्टी की हिस्सेदारी के लिए गया था। अगर पहले कह दे देते कि एक-दो सीटें देंगे तो मैं अपना काम करता। चन्द्रशेखर ने कहा कि पांच सीटों की मांग हमारी थी।

बता दें कि सपा के साथ गठबंधन विफल रहने के बाद आजाद समाज पार्टी के मुखिया चन्द्रशेखर ने 34 सीटों पर उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है। उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करते हुए चंद्रशेखर ने कहा कि पार्टी अपने दम पर यहां तक पहुंची है। हमें किसी बड़े दल की जरूरत नहीं है। हमारा संगठन बड़ा है और हम अपने कार्यकर्ताओं के दम पर चुनाव लड़ेंगे।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट