सरकार ने MSP को कानूनी जामा नहीं पहनाया तो BJP हटाओ का नारा बुलंद करेंगे? इस सवाल पर राकेश टिकैत ने दिया ऐसा जवाब

टिकैत ने बताया कि सरकार की तरफ से बातचीत के दौरान कहा गया था कि पहले तीन कृषि कानूनों पर बात होगी उसके बाद हम एमएसपी पर भी बात करेंगे।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath
किसान नेता राकेश टिकैत (फोटो सोर्स – पीटीआई)

किसान नेता राकेश टिकैत ने सोमवार को लखनऊ में किसान महापंचायत को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन अभी स्थगित नहीं किया जाएगा, ये आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि इस आंदोलन की खूबसूरती ये है कि यहां पर रंग बिरंगे झंडे हैं लेकिन सब के मुद्दे एक हैं। इन्हीं मुद्दों पर न्यूज़ 24 न्यूज़ चैनल से बात करते हुए राकेश टिकैत ने बीजेपी पर निशाना साधा।

एंकर ने टिकैत से पूछा – सरकार ने MSP को कानूनी जामा नहीं पहनाया तो BJP हटाओ का नारा बुलंद करेंगे? इस पर टिकैत ने कहा कि अब समस्या समाधान की ओर जा रही है तो उस पर बात करेंगे। उन्होंने बीजेपी को लेकर कहा कि मोदी सरकार को ज्ञान हो गया है कि इस बिल के कारण उन्हें चुनाव में नुकसान हो सकता है, इसलिए अब बातचीत की टेबल पर आना ही पड़ेगा।

इसके साथ ही टिकैत ने कहा कि जिन साढ़े सात सौ किसानों की मौत हुई है, उनको मुआवजा देने की बात भी हम सरकार से करेंगे। हमें कई मुद्दों को लेकर सरकार से बात करनी है लेकिन वह बातचीत करने से कतरा रही है। राकेश टिकैत ने एमएसपी को लेकर कहा कि जिस तरह से और सब कुछ खत्म किया गया उसी तरह से इसे भी खत्म किया जाना चाहिए।

एंकर ने राकेश टिकैत ने कहा— राहुल गांधी के घर के बाहर जाकर बेचिये फसल तो मिला यह जवाब

टिकैत ने बताया कि सरकार की तरफ से बातचीत के दौरान कहा गया था कि पहले तीन कृषि कानूनों पर बात होगी उसके बाद हम एमएसपी पर भी बात करेंगे। उन्होंने कहा कि 2011 में गुजरात की सरकार द्वारा एक रिपोर्ट जारी करते हुए कहा गया था कि एमएससी गारंटी कानून बनना चाहिए। नई कमेटी बनाने के बजाय मोदी सरकार अपनी पुरानी कमेटी की रिपोर्ट लागू कर देनी चाहिये।

स बार लड़ेंगे चुनाव – एंकर नविका कुमार ने किसान नेता से पूछा सवाल, राकेश टिकैत बोले – आप लड़ लो

टीवी की डिबेट पर सोशल मीडिया यूजर्स ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। दिगपाल सिंह (@digpalsingh19) नाम के ट्विटर हैंडल से लिखा गया – अभी सरकार को और ज्ञान देना चाहिए। पहले क्या हुआ था उस ज्ञानी को यह भी समझ में आना चाहिए। हमें सिर्फ प्रगति पथ पर आगे बढ़ना है। सुनील सेठ (@sunilSeth19) नाम के ट्विटर अकाउंट से लिखा गया कि अभी आंदोलनकारियों को मोदी जी से काफी ज्ञान मिलना बाकी है। सत्यप्रकाश तंवर (@SatyaPr08221735) ट्विटर हैंडल से कमेंट आया कि राकेश टिकैत पहले खुद बिचौलिए हटाए जाने की वकालत करते थे, लेकिन जब यह बिल आ गया तो ड्रामा कर रहे हैं।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
अमित शाह के पैर छूने वाले Video पर मंत्री वीके सिंह की सफाई- मीडिया की बदमाशीVK Singh, India EU deal, India EU FTA Deal, FTA deal, European Union