एंकर ने पूछा – जब नमाज़ लोगों के घरों या गुरुद्वारों में ही पढ़नी थी तो फिर क्यों हमारे हजारों मंदिरों को तोड़ा? आने लगे ऐसे कमेंट्स

(@NargisBano_) ट्विटर अकाउंट से लिखा गया कि हजारों मंदिरों को तोड़ा? इतिहास गवाह है कि जब मंदिर पर हमला भी हुआ तो वह धर्म के आधार पर नहीं हुआ बल्कि राजा महाराजा मंदिर में शरण ले रहे थे तो वहां हमला करना पड़ता था।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath
एंकर ने पूछा – जब नमाज़ लोगों के घरों या गुरुद्वारों में ही पढ़नी थी तो फिर क्यों हमारे हजारों मंदिरों को तोड़ा? आने लगे ऐसे कमेंट्स (एक्सप्रेस फोटो)

गुरुग्राम में हर शुक्रवार को खुले पर होने वाली जुमे की नमाज को लेकर विवाद चल रहा है। इसी को लेकर एंकर अमन चोपड़ा ने ट्वीट किया कि जब नमाज लोगों के घरों या गुरुद्वारों में ही पढ़नी थी तो फिर क्यों हमारे हजारों मंदिरों को तोड़ा? एंकर के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स अपनी प्रतिक्रिया देने लगे।

एक्टर सुशांत सिंह ने इस ट्वीट पर कमेंट किया कि नाम अमन और काम….। जमशेद (@jamsheedmbnr) टि्वटर हैंडल से लिखा गया कि आप पत्रकार हैं या कुछ और? हिमांशी (@himansshhi) टि्वटर अकाउंट से कमेंट आया कि बॉस रात में आप शांति से कैसे सो पाते होंगे? सलीम राणा नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा कि ऐसी बातें बोलकर अमन चोपड़ा कंगना रनौत को
कड़ी टक्कर दे रहे हैं।

जॉय (@joydas) लिखते हैं कि जब मकसद नफरत फैलाने का है तो नाम अमन क्यों रखा? मीना कोटवाल ने लिखा कि अमन इस चमन को उजाड़ना चाहते हैं। नरगिस बानो (@NargisBano_) ट्विटर अकाउंट से लिखा गया कि हजारों मंदिरों को तोड़ा? इतिहास गवाह है कि जब मंदिर पर हमला भी हुआ तो वह धर्म के आधार पर नहीं हुआ बल्कि राजा महाराजा मंदिर में शरण ले रहे थे तो वहां हमला करना पड़ता था। लेकिन मंदिर को नुकसान नहीं पहुंचाया जाता था और एक बात याद रखो यह देश हर धर्म का है।

गुरुग्राम: हिंदुओं के विरोध के आगे झुका प्रशासन, आठ जगह जुमे की नमाज़ के लिए दी गई अनुमति रद्द

अब्दुल आदिल अंसारी (@ansaribduadil) टि्वटर हैंडल से लिखा गया है कि लगता है हिस्ट्री से मिस्टर वाकिफ नहीं हैं? किसी राजा ने धर्म के आधार पर धार्मिक स्थल नहीं तोड़ा था। पहले जाकर इतिहास पढ़िए ज्ञान मत दीजिए। अधूरा ज्ञान हमेशा खतरनाक होता है। अहमद कबीर (@AhmedKhbeer_) टि्वटर हैंडल से लिखा गया कि वह दिन दूर नहीं जब आप जैसे आन एयर एक धर्म विशेष के लोगों को कुछ भी बोला जाएगा।

रुपिन शर्मा (@rupin1992) ट्विटर अकाउंट से लिखा गया, जब ईश्वर कण कण में हो तो मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारा नहीं चाहिए। ईश्वर और भक्ति मन की स्थिति है। शुभम (@Shubham09) टि्वटर हैंडल से कमेंट आया कि ऐसे लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा फॉलो किए जाते हैं।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट