ताज़ा खबर
 

नए मुख्‍य आर्थिक सलाहकार ने नोटबंदी को बताया था ‘क्रांतिकारी कदम’, अब हो रहे ट्रोल

एक यूजर ने लिखा कि, भारत के लिए एक अभिशाप, अन्य मोदी भक्त भारत के प्रीमियर संस्थान को नष्ट करने के लिए तैयार हैं। उन्हें नियुक्ति की तारीख से पहले बर्खास्त किया जाना चाहिए।

@Bertrand_Hussel ने लिखा कि, तुम्हारे पास इकोनॉमिक्स की कोई डिग्री नहीं है, सिर्फ MBA किया है। क्या आप इस नौकरी के लिए क्वालीफाई हैं।

कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन को देश का नया मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) नियुक्त किया गया है। नए सीईए ने नवंबर 2016 में मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी को ‘क्रांतिकारी कदम’ बताया। इसे लेकर उन्होंने एक लेख लिखा था। जिसे उन्होंने ट्विटर पर शेयर किया। इसके बाद के वी सुब्रमण्यन को यूजर्स ने ट्विटर पर ट्रोल करना शुरू गर दिया। @Mukesde7 ने लिखा झोला छाप अर्थशास्त्री ही ऐसी बात कर सकता है। चुनाव में जीत अर्थशास्त्र के नियमों और गणनाओ की सत्यता का परिचायक नही है। @Vijay_Prksh ने लिखा कि यही कारण है कि उन्होंने आपको ईए बनाया है। ऐसे लोग अपने फायदे के लिए सत्ता के उन लोगों की प्रशंसा करते हैं। अगर आपको नोटबंदी के प्रभाव को समझना है तो कुछ गांवो में जाकर देखो। @God_Conundrum ने लिखा कि, और यह आपका मूल्यांकन है? मेरा दिमाग सुन्न कर देता है। @Indo99P ने लिखा कि मुझे लगता है कि अब भारत में कोई गरीब नहीं रहा है।

@NilaaRaseegan ने लिखा सुब्रमण्यम को पकोड़ामिक। @s_karkala ने लिखा कि सर हम लोगों को भ्रष्टाचार, आतंकवाद और कालेधन को खत्म करने के लिए एक बार फिर नोटबंदी करनी चाहिए। @dinesagarwal ने लिखा कि इसका रिवार्ड मिल गया। @mjbill2014 ने लिखा कि शर्म आनी चाहिए इकॉनोमिक एडवाइजर, 99 फीसदी इकोनॉमिस्ट नोटबंदी को बलंडर बता रहे हैं। @kannankmca ने लिखा कि, भारत के लिए एक अभिशाप, अन्य मोदी भक्त भारत के प्रीमियर संस्थान को नष्ट करने के लिए तैयार हैं। उन्हें नियुक्ति की तारीख से पहले बर्खास्त किया जाना चाहिए।

@venkat1962 ने लिखा, क्या आप कभी एटीएम की लाइन में खडे़ हुए थे, या नोटबंदी के दौरान पैसा निकालने के लिए बैंक जाना पड़ा था? @growth_agendas ने लिखा कि, कितने लोगों की मौत हो गई और आप कह रहे हैं कि नोटबंदी ठीक थी। @Bertrand_Hussel ने लिखा कि, तुम्हारे पास इकोनॉमिक्स की कोई डिग्री नहीं है, सिर्फ MBA किया है। क्या आप इस नौकरी के लिए क्वालीफाई हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App