ताज़ा खबर
 

‘सरकार को फर्क नहीं पड़ता, वह अब फैक्ट्री में भी किसान बना सकती है..’, किसान आंदोलन पर रवीश कुमार का पोस्ट वायरल

Ravish Kumar ने लिखा- किसी को भी मुसलमान बता दिया जा रहा है। इसका मतलब है मुद्दा एक ही है। मुसलमान होना और मुसलमान नहीं होना। जो भी इस विभाजन रेखा को पार करेगा मुसलमान बता दिया जाएगा। किसानों को आतंकवादी और पाकिस्तानी बता दिया गया है।

December 17, 2020 12:08 PM
पिछले करीब 3 सप्ताह से किसान आंदोलन पर बैठे हैं। NDTV के Ravish Kumar ने इस आंदोलन को लेकर फेसबुक पोस्ट लिखा है जो वायरल हो रहा है। (Photo: Reuters)

नए कृषि कानूनों को लेकर हजारों किसान और किसान यूनियन पिछले 3 सप्ताह से ज्यादा समय से दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं। इस कड़ाके की सर्दी ने आंदोलन को आर भी तकलीफदेह बना दिया है। किसान सरकार से नए कृषि कानून को रद्द करने का मांग पर अड़े हुए हैं तो वहीं 6 राउंड की बैठक के बाद भी इसपर कोई सहमति नहीं बन पाई है। इस सर्द मौसम में सड़क पर डेरा जमाए किसानों और उनके आंदोलन को लेकर वरिष्ठ पत्रकार ने एक पोस्ट लिखा है। रवीश कुमार का ये पोस्ट वायरल हो रहा है।

रवीश कुमार ने अपने इस फेसबुक पोस्ट में लिखा- “सरकार ने किसान आंदोलन के ख़िलाफ़ भयंकर प्रचार युद्ध शुरू कर दिया है। किसान सम्मेलनों और प्रेस कांफ्रेंस के ज़रिए क़ानून का प्रचार होगा। जल्दी ही सुरक्षा का एंगल किसान आंदोलन के आस-पास खड़ा कर दिया जाएगा। चीन और पाकिस्तान का नाम लेकर। किसान घिर गए हैं। ऊपर से ठंड और सामने से प्रोपेगैंडा। इस बीच किसान मोर्चा ने भी सरकार के प्रचार युद्ध का सामना करने की तैयारी की है। कल ट्विटर पर अकाउंट खोलने का एलान हुआ। इस हैंडल का पता है @kisanektamorcha, फ़ेसबुक पर भी एक पेज बना है। आई टी सेल से लड़ना आसान नहीं है। गोदी मीडिया की ताक़त एक ऐसी दीवार है जिसके सामने जनता का कोई वर्ग टिक नहीं पाएगा। जनता की संख्या कितनी है इसका महत्व पहले ही ख़त्म हो चुका है। न इसका असर है। अपनी किताब बोलना ही है में विस्तार से बता चुका हूँ और अक्सर बोलता लिखता रहता हूँ।

किसानों की लड़ाई शाहीन बाग़ की तरह हो गई है। धरना तो है लेकिन उसके बाद कुछ नहीं। सरकार को फ़र्क़ नहीं पड़ता है। इसके पहले बेरोजगार लड़ कर हिन्दू मुसलमान में बंट चुके हैं। गाँवों में हिन्दू मुसलमान की जो खेती हुई है उससे किसान अलग नहीं है। किसानों की लड़ाई अपने भीतर के बँटवारे से है। मुझे नहीं लगता कि अब किसी भी वर्ग में इतनी बौद्धिक ताक़त बची है कि वह आई टी सेल और गोदी मीडिया के प्रोपेगैंडा से लड़कर अपने भीतर के बँटवारे को बांट सकेगा।जनता अपना जनतापन हार चुकी है। हार कर अपना हार बना चुकी है। ये वो जनता है जो अपनी हार का हार पहनकर घूम रही है।

किसानों के इरादों को देखते हुए कुदरत से ही प्रार्थना है कि ठंड का क़हर कुछ कम कर दे। सरकार अविजित है। कालजयी है। भारत की जनता के सहयोग से लोकतंत्र की आचार संहिता ख़त्म की गई है। किसी को भी मुसलमान बता दिया जा रहा है। इसका मतलब है मुद्दा एक ही है। मुसलमान होना और मुसलमान नहीं होना। जो भी इस विभाजन रेखा को पार करेगा मुसलमान बता दिया जाएगा। किसानों को आतंकवादी और पाकिस्तानी बता दिया गया है। यही विभाजन रेखा किसानों के भीतर भी है। जनता के लिए वापस जनता होने के रास्ते बंद हो चुके हैं। बस वो जनता होने का पुराना कुर्ता पहन कर जनता होना चाह रही है। जैसे हम सर्दी के कपड़े निकाल कर बीती सर्दी को याद करते हैं। उसे महसूस करते हैं। भारत की जनता को अपने जन मृत्यु के महाभोज की तैयारी करनी चाहिए। परम्पराओं के अनुसार लोग जीते जी भी श्राद्ध कर जाते हैं।

जो देख रहा हूँ वो बीते कालखंड में जन के होने का अवशेष है।जनता की जन-मृत्यु ऐच्छिक थी। जनता ने ख़ुशी ख़ुशी गले लगाया था। जन विहीन लोकतंत्र में आपका स्वागत है। आंदोलन में आए किसान एक मुट्ठी भर बची धान है। सरकार धान के बीज अब फ़ैक्ट्री में बना सकती है और किसान भी ! सरकार को फ़र्क़ नहीं पड़ता। जो लिख रहा हूँ वो कालजयी सत्य है।”

रवीश कुमार का ये फेसबुक पोस्ट वायरल हो रहा है। इस पोस्ट पर हजारों की संख्या में लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। तमाम यूजर्स रवीश कुमार की बातों से सहमति जताते हुए लिख रहे हैं कि सरकार को किसानों का दर्द समझना चाहिए और जल्द स जल्द इस आंदोलन को सकारात्मत तरीके से खत्म कराने के लिए कोई रास्ता निकालना चाहिए। वहीं बहुत से यूजर्स ऐसे भी हैं जो रवीश कुमार पर सरकार विरोधी होने का तमगा लगाते हुए उन्हें ट्रोल कर रहे हैं।

Next Stories
1 ‘गेहूं के पेड़ इटली में होंगे हिंदुस्तान में नहीं’, राहुल गांधी की खिल्ली उड़ाते हुए बोले फ़िल्म मेकर, यूजर्स भी लेने लगे मज़े
2 ‘सिख समुदाय पर यूं अहसान जताना बेहद शर्मनाक..’, किसान आंदोलन के बीच IRCTC के ईमेल पर भड़के रवीश कुमार
3 BJP प्रवक्ता बोले- किसानों में भरोसे की कमी, इसलिए नहीं है कोई नेता, एंकर ने पूछा- फिर अमित शाह किससे कर रहे थे बात?
ये पढ़ा क्या?
X