ताज़ा खबर
 

सद्भाव: रामनवमी पर आयोजित किया गया था जुलूस, मस्जिद के पास राम भक्तों को मुस्लिम पिला रहे थे जूस!

Ramnavmi: कर्नाटक के कलबुर्गी में रामनवमी जुलूस के दौरान एक मस्जिद के पास मुस्लिम समुदाय के युवकों ने रामभक्तों को जूस पिलाया। सोशल मीडिया यूजर्स इसकी तारीफ कर रहे हैं।

Author Updated: April 13, 2019 10:35 PM
रामभक्तों को जूस पिलाते मुस्लिम समुदाय के युवक। (Photo: ANI)

Ramnavmi: आज पूरे देश में मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम के जन्मोत्सव ”रामनवमी” के पावन पर्व धूमधाम से मनाया गया। जगह-जगह झांकियां निकाली गई। कर्नाटक में रामनवमी के अवसर पर सद्भाव की मिसाल देखने को मिली, जहां मस्जिद के पास मुस्लिम समुदाय के लोगों ने राम भक्तों को जूस पिलाया। कर्नाटक के कलबुर्गी में रामनवमी जुलूस का आयोजन किया गया था। काफी संख्या में भक्तगण भगवान राम की विशाल प्रतिमा लेकर जा रहे थे। इस दौरान रास्ते में एक मस्जिद के पास मुस्लिम लोगों द्वारा रामभक्तों का स्वागत किया गया। कड़ी धूप को देखते हुए रामभक्तों के लिए जूस की व्यवस्था की गई थी। न्यूज एजेंसी एएनआई ने इस पूरे वाकये की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की। सोशल मीडिया यूजर्स की वाकये की काफी तारीफ कर रहे हैं।

@Sampat_Saral ने लिखा, “मुसलमां और हिन्दू की जान,कहाँ है मेरा हिन्दुस्तान,
मैं उसको ढूंढ रहा हूँ, मैं उसको ढूंढ रहा हूं। – अजमल सुल्तानपुरी साहब।”


@Chandan14743814 ने लिखा, “हम भी ईद में इसी तरह से करते हैं।” @Ashutos29423596 ने लिखा, “अतुल्य भारत।” @Analyst26Guru ने लिखा, “यही असली भारत है जहां आम आदमी भाईचारे के साथ रहते हैं।” @sumanjha870 ने लिखा, “हिन्दू मुस्लिम एकता के दुश्मनों को मुंह चिढ़ाती ये तस्वीरें।”

रामनवमी के अवर पर उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने देशवासियों को शुभकामनायें देते हुये भगवान श्रीराम के आदर्शों का अपने जीवन में अनुकरण करने का आह्वान किया है। नायडू ने ट्विटर पर अपने संदेश में कहा, ‘‘रामनवमी के शुभ अवसर पर देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं। भगवान राम उदारता, न्याय, साहस और करुणा जैसे सद्गुणों के साक्षात मूर्तस्वरूप थे। आजन्म उन्होंने सत्य, माता पिता के सम्मान, दया तथा जीव मात्र से स्रेह जैसे आदर्शों को जिया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मर्यादा पुरुषोत्तम राम आदर्श राजा थे। न्याय, सुशासन और जनकल्याण के प्रति उनका दृढ़संकल्प आज भी हमारे लिए अनुकरणीय आदर्श है। यह पर्व हमें उस पथ पर प्रशस्त करे जो उनके उदात्त आदर्शों से आलोकित हो, हम उस विश्व का निर्माण कर सकें जो उनके आदर्शों पर निर्मित हो।’’ (एजेंसी इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 यौन उत्पीड़न का शिकार हुईं पाकिस्तानी मूल की यह नेता, बस में सामने बैठा शख्स कर रहा था मास्टरबेट
2 अमित शाह बोले- हिंदुओं, सिखों और बौद्ध को छोड़ सारे घुसपैठियों को खदेड़ देंगे, सरदार का जवाब वायरल
3 स्मृति ईरानी डिग्री विवादः यूजर्स बोले- हफ्ते भर की वर्कशॉप को डिग्री नहीं कहते
जस्‍ट नाउ
X