देवबंद के मौलाना ने ठोका बद्रीनाथ धाम पर मुसलमानों का दावा, बाबा रामदेव बोले- इस्‍लाम को बदनाम कर रहा है

मदरसा दारुल उलूम निश्वाह के मौलाना अब्दुल लतीफ कासमी ने दावा किया है कि सैकड़ों साल पहले बद्रीनाथ धाम बदरुद्दीन शाह या बद्री शाह के नाम से जाना जाता था।

Badrinath, Badridham, Hindu shrine Badrinath, Madarsa Darul Uloom Nishwah, Maulana Abdul Latif Qasmi, Badruddin Shah, Badri Shah, Muslim shrine Badri Shah, Badrinath Muslim pilgrimage, Badrinath dham, Prime Minister Narendra modi, Darul Uloom Deoband, Baba ramdev, Hindu, Islam, Muslim, Hindi news, Latest Hindi news, Jansatta
हिन्दुओं के पवित्रतम तीर्थस्थल में शुमार उत्तराखंड स्थित बद्रीनाथ धाम में कपाट खोलने का अनुष्ठान (Express File Photo by Virender Singh Negi)

हिन्दू समुदाय के पवित्रतम तीर्थस्थलों में शुमार बद्रीनाथ धाम पर एक मौलाना ने दावा किया है। मौलाना का कहना है कि उत्तराखंड में स्थित बद्रीनाथ धाम सदियों पहले मुसलमानों का तीर्थस्थल था। मदरसा दारुल उलूम निश्वाह के मौलाना अब्दुल लतीफ कासमी ने दावा किया है कि सैकड़ों साल पहले बद्रीनाथ धाम बदरुद्दीन शाह या बद्री शाह के नाम से जाना जाता था। मौलाना अब्दुल लतीफ कासमी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर मांग की है कि इस धार्मिक स्थल को हिन्दुओं से लेकर मुसलमानों को सौंपा जाए। मौलाना ने कहा कि ये तीर्थस्थल हिन्दुओं का नहीं हो सकता, मौलाना के मुताबिक बद्री नाम में बाद में नाथ लगाया गया, लेकिन इससे वो हिन्दू नहीं हो जाते। मदरसा दारुल उलूम निश्वाह सहारनपुर में काम करने वाली संस्था है। मुफ्ती अब्दुल लतीफ इस संस्था के वीसी हैं। अब्दुल लतीफ के इस बयान की हिन्दुओं और मुसलमान दोनों ने ही आलोचना की है, और कहा है कि वे बकवास बयान है।

बद्रीनाथ में भी इस बयान की आलोचना हुई है। बद्रीनाथ के पुजारियों और वहां के स्थानीय लोगों ने इस मौलाना को पागल करार दिया है। बद्रीनाथ के एक मौलाना ने कहा कि मौलाना अब्दुल लतीफ कासमी को पता होना चाहिए कि बद्रीनाथ की स्थापना आदि गुरु शंकराचार्य ने तब की थी जब इस्लाम वजूद में भी नहीं था। योग गुरु बाबा रामदेव ने भी मौलाना अब्दुल के इस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। बाबा रामदेव ने कहा कि ऐसे शख्स इस्लाम को बदनाम कर रहे हैं। बाबा रामदेव ने ट्वीट किया, ‘ऐसे मौलाना बद्रीनाथ धाम के बारे में झूठ फैलाकर इस्लाम को बदनाम कर रहे हैं, बद्रीनाथ धाम की स्थापना इस्लाम के आने से सैकड़ों साल पहले हुई थी।’

बता दें कि बद्रीनाथ धाम भगवान विष्णु को समर्पित हिन्दुओं की आस्था का अहम केन्द्र हैं। इसे हिन्दुओं के चार धामों में से एक माना जाता है। हिन्दू इस स्थान का दर्शन करना पुण्य का काम समझते हैं। ठंड के दिनों में प्रचंड शीत की वजह से बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद कर दिये जाते हैं। माना जाता है कि ये वक्त भगवान के आराम का समय है। मौसम ठीक होने पर इसे दोबारा दर्शन के लिए खोला जाता है।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।