अखिलेश यादव ने बीजेपी पर निशाना साधा निशाना, कहा – किसानों का आक्रोश देखकर डबल इंजन के ड्राइवर हो गये नदारद

राकेश टिकैत ने अपने संबोधन में कहा था कि हम संकल्प लेते हैं कि हम धरना स्थल को नहीं छोड़ेंगे, भले ही हमारा कब्रिस्तान ही क्यों ना बन जाए वहां पर, हम जरूरत पड़ने पर अपनी जान देने को भी तैयार हैं।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath
SP प्रमुख अखिलेश यादव (फोटो सोर्स – पीटीआई)

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर अखिलेश यादव तैयारी के मोड में नजर आ रहे हैं। पिछले कई दिनों से लगातार वह सपा कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर रहे हैं और उनमें जोश भर रहे हैं। किसान आंदोलन के मुद्दे पर भी सपा प्रमुख बीजेपी पर निशाना साधने में पीछे नहीं है। उन्होंने मुजफ्फरपुर में हुई किसान महापंचायत पर ट्वीट करते हुए लिखा कि किसानों का आक्रोश देख कर डबल इंजन के सारे ड्राइवर नदारद हो गए हैं।

अखिलेश यादव ने बीजेपी पर तंज कसते हुए अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया कि, ‘किसानों का आक्रोश देखकर डबल इंजन के सारे ड्राइवर नदारद हो गये हैं। भाजपा में भगदड़ मच गयी है। उप्र के मुज़फ़्फ़रनगर ने एक ऐसी ‘जनक्रांति’ को जन्म दिया है जो देश को भाजपा की नफ़रत भरी राजनीति के अंधकार से निकालकर अमन-चैन और तरक़्क़ी की नयी रोशनी की ओर ले जाएगी।’ सपा प्रमुख अखिलेश यादव के ट्वीट पर लोग अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं।

एक टि्वटर यूजर लिखते हैं कि भगदड़ कहां मची है यह सबको पता है, मुस्लिम तुष्टीकरण के लिए जिस तरह से आप लोगों ने जाटों को दंगों में मरवाया था वो अभी भी मुजफ्फर के जाट भूले नहीं है। @sushant68101633 टि्वटर हैंडल से उनको जमीन पर उतरने की सलाह देते हुए लिखा गया कि जब तक हवा में उड़ते रहोगे जमीनी सच्चाई का जरा भी नहीं पता चलेगा। जमीन पर आओ अपने आप को देखो।

एक ट्विटर यूजर लिखते हैं कि अखिलेश जी, डबल इंजन को छोड़िए आप अपनी पंचर साइकिल संभालिए। चाहे माफिया धक्का दें या लाल किले से तिरंगा उतार कर फेकने वाली भाड़े की भीड़, प्रदेश में साइकिल आगे बढ़ने वाली नहीं है। @Arvind83954066 टि्वटर हैंडल से मजा लेते हुए लिखा गया कि उत्तर प्रदेश की जनता आपके लिए खड़ी है। आप चिंता मत करो आपको 2022 में बिल्कुल चुप कर देंगे। आपको हमेशा विपक्ष में बैठाया है अबकी बार फिर से विपक्ष में बैठने लायक रखूंगा।

जानकारी के लिए बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत आयोजित की गई थी। जिसमें लाखों की संख्या में किसानों ने हिस्सा लिया था। जिसमें किसान नेता राकेश टिकैत ने अपने संबोधन में कहा था कि हम संकल्प लेते हैं कि हम धरना स्थल को नहीं छोड़ेंगे, भले ही हमारा कब्रिस्तान ही क्यों ना बन जाए वहां पर, हम जरूरत पड़ने पर अपनी जान देने को भी तैयार हैं।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट