ताज़ा खबर
 

शिवराज सिंह चौहान ने दी इफ्तार पार्टी, लोगों ने कहा- मुंह में राम, बगल में छुरी; दिल्ली में होते तो नहीं दे पाते

दरअसल शुक्रवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की ओर से इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया था, जिसमें बीजेपी या केंद्र सरकार की ओर से कोई भी शामिल नहीं हुआ।

शिवराज सिंह चौहान ने दी इफ्तार पार्टी। (Photo Source: Twitter)

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को अपने आवास पर इफ्तार पार्टी का आयोजन किया। इस पार्टी में कई माननीय लोग और मुस्लिम समुदाय के लोग शामिल हुए। इफ्तार पार्टी की तस्वीरें सामने आई है, जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पगड़ी में दिखाया गया है। शिवराज के पगड़ी पहनने को लेकर सोशल मीडिया पर कीर्ति नाम की एक यूजर ने लिखा- “शिवराज मामा को कोई टोपी न पहना दे के डर से पहले ही पगड़ी पहनकर बैठ गए हैं।” शिवराज की इफ्तार पार्टी को लेकर यूजर्स ने ट्वीट किए।

अदनान नाम के एक शख्स ने अपने कमेंट में लिखा- “क्या वहां खबर नहीं थी कि शिवराज सिंह चौहान को केंद्र में स्थानांतरित किया जा रहा है? इसके बाद वह और इफ्तार पार्टी नहीं दे पाएंगे!” मोहम्मद फरीद नाम के एक यूजर ने लिखा- “मुंह में राम, राम बगल में छुरी।” अंकित नाम के एक शख्स ने कहा, “कल भारत के राष्ट्रपति की ओर से आयोजित की गई इफ्तार पार्टी में केंद्र सरकार की ओर से किसी भी मंत्री ने भाग नहीं लिया। शासन ऐसे भ्रमित नेता!

दरअसल शुक्रवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की ओर से इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया था, जिसमें बीजेपी या केंद्र सरकार की ओर से कोई भी शामिल नहीं हुआ। इस पर विपक्षी पार्टियों के नेताओं की ओर से हैरानी भी जताई गई है। सीपीएम पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि वहां ना तो कोई भी मंत्री था, ना सरकार का कोई नुमाइंदा और ना ही कोई बीजेपी का नेता। उन्होंने आजतक ऐसा कोई इफ्तार नहीं देखा, जिसमें भारत सरकार की तरफ से कोई भी ना पहुंचे। वहीं सपा सांसद जावेद अली खान ने बताया कि उन्हें भी इफ्तार में कोई मंत्री नहीं दिखा। वह पिछली तीन इफ्तार पार्टियों में आए हैं लेकिन उस वक्त कई मंत्री वंहा पहुंचे थे। जावेद ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह, मुख्तार अब्बास नकवी, महेश शर्मा और विजय गोयल का नाम लिया जो पिछले इफ्तार में उनको मिले थे लेकिन इस बार उनके पास वक्त नहीं था।

रजनीकांत अपनी पार्टी बनाकर लड़ सकते हैं 2019 का चुनाव

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App