ताज़ा खबर
 

Molière Google Doodle: समाज की कमियों पर लेख के जरिए खींचा ध्यान

Moliere Google Doodle: फ्रेंच एक्‍टर और प्‍लेराइट मोलियरे की गिनती दुनिया के दिग्‍गज कलाकारों में होती है। उनका कालजयी अभिनय और लेखन को आज भी याद किया जाता है। उन्‍होंने 10 फरवरी, 1673 को अपने आखिरी नाटक का मंचन किया था।

French Actor and Playwright Moliere Google Doodle: फ्रांसीसी एक्‍टर और नाटककार को गूगल ने डूडल बनाकर याद किया है। (फोटो सोर्स: गूगल स्‍क्रीनशॉट)

Moliere Google Doodle: गूगल ने फ्रांस के दिग्‍गज अभिनेता और नाटककार मोलियरे को याद किया है। उनका दिलचस्‍प डूडल बनाकर उन्‍हें सम्‍मान दिया गया है। मोलिरे की गिनती 17वीं शताब्‍दी के महान कलाकारों में होती है। मोलिरे ने आज के ही दिन वर्ष 1673 में अपने आखिरी नाटक का प्रीमियर किया था। फ्रांस के इस महान लेखक और अभिनेता ने पुश्‍तैनी व्‍यापार के धंधे को अपनाने से इनकार कर दिया था। उन्‍होंने थिएटर का करियर वर्ष 1640 में शुरू की थी। उनके पहले नाटक का मंचन वर्ष 1660 में लॉवरे म्‍यूजियम के समीप स्थित पेटिट-बॉरबॉन में हुआ था। उनका लेखन आमतौर पर तत्‍कालीन समाज को आइना दिखाने का काम करता था।

मोलियरे ने ‘स्‍कूल फॉर वाइव्‍स’, ‘डॉन जुआन’ और ‘द माइजर’ जैसे कालजयी नाटक लिखे और उसका मंचन किया। उन्‍होंने ‘द इमेजनरी इनवैलिड’ में बेहतरीन अभिनय का नमूना पेश किया था। मोलियरे ने अपने आखिरी नाटक द इमेजनरी इनवैलिड में मेडिकल पेशे को रेखांकित किया था। उन्‍हें कॉमेडी क्षेत्र में बेहतरीन अभिनय के लिए भी जाना जाता है।

 

 

Live Blog

Highlights

    15:12 (IST)10 Feb 2019
    समाज की कमियों पर लिखा

    16वीं सदी में फ्रांस में इटली के थिएटर का असर पड़ा। फ्रांस में इटली की कॉमिडी कंपनियां काफी लोकप्रिय थीं। ये कंपनियां जगह-जगह जातीं और अपने नाटक प्रस्तुत करतीं। मोलियर एक इतालवी नाटक कंपनी कॉमेडिया डेलार्टे से काफी प्रभावित थे। उनकी लेखन शैली कॉमेडिया डेलार्टे से काफी प्रभावित थे। उन्होंने समाज की कमियों पर अपनी लेखनी से प्रहार किया।

    14:42 (IST)10 Feb 2019
    शुरू की थी थिएटर कंपनी

    मोलियरे ने साल 1643 में इलुस्ट्रियस के नाम से एक थिएटर कंपनी शुरू की थी। वह अभिनयर भी करते थे और निर्देशन भी। उस वक्त उनकी यह कंपनी घाटे में चली गई थी और कर्ज ना चुका पाने की वजह से उन्हें जेल भी जाना पड़ा था। जेल से निकलने के बाद उनकी कंपनी ने 13 सालों तक अलग-अलग प्रांतों का दौरा करके अभिनय का जलवा बिखेरा। उसी दौरान मोलियर ने लिखना शुरू कर दिया।

    14:09 (IST)10 Feb 2019
    यहां से की थी लॉ की पढ़ाई

    मोलियरे का असली नाम जॉन बैतिस्त पोक्युलॉन था। वह अपने माता-पिता के छह संतानों में सबसे बड़े थे। 14 साल की उम्र में वो कॉलेड डे क्लैरमॉन्ट पढ़ाई करने गए। बाद में उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ ऑरलियंस से लॉ की पढ़ाई की।

    13:31 (IST)10 Feb 2019
    मोलियरे के पिता बड़े बिजनेसमैन थे

    एक सफल कारपेंटर और बड़े बिजनेसमैन के बेटे मोलियरे ने पिता का व्यापार संभालने से इनकार कर दिया था। वे अभिनय के क्षेत्र में अपना नाम बनाना चाहते थे।

    12:49 (IST)10 Feb 2019
    मोलियरे के कुछ शानदार नाटक

    मोलियरे के कुछ शानदार नाटक जैसे School for Wives, Don Juan, and The Miser के दृश्य इस गूगल डूडल में दिखाई दे रहे हैं।

    11:42 (IST)10 Feb 2019
    मोलियरे के कार्यों को याद

    गूगल डूडल ने बेहद ही अनोखे अंदाज में मोलियरे के कार्यों को याद किया है। गूगल डूडल ने मोलियरे के कार्यों सम्मान में बेहद की खूबसूरत डिजाइन से उनके सबसे यादगार दृश्यों की झलक पेश की है।

    10:56 (IST)10 Feb 2019
    Google Doodle: पुनर्जागरण से पहले जगाई थी अलख

    महान नाटककार मोलिरे ने फ्रांस के साथ ही यूरोप में उस वक्‍त जागरुकता की अलख जगाने का काम किया था, जब पूरा यूरोप धार्मिक अंधविश्‍वास में डूबा हुआ था। उन्‍होंने अपनी कला के माध्‍यम से लोगों में ज्ञान का प्रकाश फैलाने की सफल कोशिश की थी

    10:15 (IST)10 Feb 2019
    Google Doodle: संभावनाओं से परे जाकर देखने में थे समर्थ

    फ्रांस के महान नाटककारों में शुमार मोलिरे के बारे में कहा जाता है कि उनका लेखन और नाटक का मंचन संभावनाओं से परे होता था। वह चीजों को भी सहज भाव से देख लेते थे, जिसके बारे में आम इंसान सोच भी नहीं पाता है।

    09:34 (IST)10 Feb 2019
    Google Doodle: फ्रेंच कॉमेडी के सरताज मोलिरे

    मोलिरे को फ्रेंच कॉमेडी का सरताज भी माना जाता है। उन्‍होंने एक से बढ़ कर एक नाटकों में अभिनय किया। मोलिरे ने कई बेहतरीन नाटक का लेखन भी किया। उनकी कॉमेडी तत्‍कालीन समाज के तानेबाने पर कटाक्ष करने वाला होता था।

    08:56 (IST)10 Feb 2019
    Google Doodle: लुई 14वें ने नाटक को किया था प्रतिबंधित

    मोलिरे ने 'टारटफे' नामक नाटक भी लिखा था, जिसमें धर्म पर कटाक्ष किया गया था। फ्रांस के राजा लुई 14वें ने उनके नाटक को प्रतिबंधित कर दिया था। हालांकि, 5 साल के बाद इस प्रतिबंध को हटा लिया गया था।

    08:33 (IST)10 Feb 2019
    Google Doodle: किया था शानदार अभिनय

    मोलिरे ने 'द इमेजनरी इनवैलिड' में छोटी लेकिन शानदार भूमिका निभाई थी। लेखन के साथ लोगों ने उनके अभिनय का भी लोहा माना था। इस नाटक में उन्‍होंने एक बीमार शख्‍स की भूमिका निभाई थी। इसमें उन्‍होंने मेडिकल खर्च बचाने के लिए बेटी को अपना प्रेम छोड़ कर एक डॉक्‍टर से शादी करने के लिए मनाने का प्रयास करते हैं।

    08:28 (IST)10 Feb 2019
    Google Doodle: मेडिकल पेशे पर किया था कटाक्ष

    मोलिरे ने अपने नाटक के माध्‍यम से मेडिकल पेशे पर कटाक्ष किया था। इसमें कई मौलिक समस्‍याओं को लोगों के सामने रखा गया था। इसी वजह से The Imaginary Invalid को फ्रांस के अलावा दुनिया के विभिन्‍न हिस्‍सों में सराहा गया था।

    Next Stories
    1 VIDEO: सुरीले अंदाज़ में भिड़े भाजपा और कांग्रेस प्रवक्ता, कव्वाली गाकर लगाए आरोप- गाने से दिया चुटीला जवाब
    2 पीएम ने कहा- हमने तय की पढ़ाई, कमाई, दवाई, सिंचाई और सुनवाई, लोग बोले- अच्छी है जुमलेबाजी
    3 अखिलेश यादव का पीएम मोदी और अमित शाह पर तंज, बोले- शपथ लें कि ‘ढाई आदमी’ को शासन करने नहीं देंगे