ताज़ा खबर
 

आयुष मंत्रालय ने रुह को बताया ‘गैसीय पदार्थ’, ट्विटर पर पिटी भद

आयुष मंत्रालय के इस ट्वीट पर न्यूरोसाइंटिस्ट डॉक्टर सुमईया शेख ने तंज कसते हुए लिखा कि तो अब हम मेडिसिन में मेटाफिजिक्स पर चर्चा करने जा रहे हैं।

Author February 4, 2019 12:47 PM
आयुष मंत्रालय का ट्वीट सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। (फोटो सोर्स ट्विटर)

इंसानी रुह से जुड़ा ट्वीट कर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आयुष मंत्रालय विवादों में आ गया है। कई यूजर्स ने मंत्रालय को खूब लताड़ लगाई है। दरअसल 31 जनवरी को मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा कि रूह (आत्मा) एक ‘गैसीय पदार्थ’ है, जो प्रेरित हवा से प्राप्त होता है। यह शरीर की सभी मेटाबोलिक गतिविधियों में मदद करता है। ट्वीट में आगे लिखा गया, ‘यह सभी प्रकार के क्ववा (शक्तियां) और हरारत घड़ियाल का उत्पादन करने के लिए अखलाट लतीफा जलाता है। यह शरीर के सभी अंगों के लिए जीवन शक्ति का स्रोत है।’

आयुष मंत्रालय के इस ट्वीट पर न्यूरोसाइंटिस्ट डॉक्टर सुमईया शेख ने तंज कसते हुए लिखा कि तो अब हम मेडिसिन में मेटाफिजिक्स पर चर्चा करने जा रहे हैं। ट्वीट में केंद्रीय राज्य मंत्री श्रीपद नाइक को टैग करते हुए आगे लिखा गया, ‘आप इस मंत्रालय की नॉन साइंटिफिक सामग्री के बढ़ते विनियमन और ट्विटर हैंडल से आने वाली गलत सूचना के लिए जिम्मेदार हैं। बढ़ी हुई फार्माकोविजिलेंस पॉलिसी यहां लागू क्यों नहीं की गई?’ यश भदौरियां लिखते हैं, ‘क्या हमारा मंत्रालय ध्रूमपान कर रहा है।’ एक ट्वीट में लिखा गया कि ऐसा ना करें, प्लीज ऐसा ना करें।

वहीं एक ट्वीट में वर्चुअली नाम से ट्वीट में एक तस्वीर शेयर कर लिखा गया कि रुह की दुनिया में आपका स्वागत है। प्रभाकरण ने लिखा, ‘मुझे लगता है कि इसे ऑक्सिजन कहा जाता है।’ मधु ट्वीट कर लिखती हैं ये तो बहुत वैज्ञानिक है। निर्मल आनंद ट्वीट कर लिखते है कि यह बिल्कुल सही है। ट्वीट में आगे लिखा, ‘जो कोई भी जानता है कि लॉ ऑफ अट्रैक्शन को कैसे एक्टिव किया जाता है, लाभ हो सकता है। आम तौर पर हम अपनी महत्वपूर्ण ऊर्जा को नकारात्मक ऊर्जा के माध्यम से बाहर निकाल देते हैं और इस अमूल्य उपहार से वंचित हो जाते हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X