scorecardresearch

विजयवर्गीय गार्ड बनने लायक हैं- अग्निवीरों पर दिए कैलाश विजयवर्गीय के बयान पर भड़के सत्यपाल मलिक, दिया ये जवाब

सत्यपाल मलिक ने कहा है कि ‘कैलाश विजयवर्गीय ने बेहद अपमानजनक बात कही है। इसके लिए उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए।

Satyapal Malik | Farmers | BJP
सत्यपाल मलिक(फोटो सोर्स: PTI/फाइल)।

अग्निपथ योजना को लेकर मचे बवाल के बीच भाजपा के कई नेता फायदे गिनाते नजर आए। इसी बीच भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने योजना के फायदे गिनाते हुए कहा था कि अगर मुझे भाजपा कार्यालय के बाहर सेक्युरिटी रखनी है तो मैं अग्निवीरों को प्राथमिकता दूंगा। विजयवर्गीय के इस बयान अब मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। 

“…और भी ज्यादा लोग गुस्से में हैं”: एनडीटीवी से बात करते हुए सत्यपाल मलिक ने कहा है कि ‘ये बहुत अन्यायपूर्ण योजना है। जितना रिएक्शन दिखाई दे रहा है, उससे ज्यादा लोगों में गुस्सा है। मेरे पास कई बच्चों के कॉल आ रहे हैं। यह बहुत खराब तरीके से सोच कर निर्णय लिया गया है। केंद्र सरकार और ग्रामीण इलाकों के लोगों के बीच दूरी आ गई है।’ 

विजयवर्गीय गार्ड बनने लायक हैं”: सत्यपाल मलिक ने कहा कि ‘इस योजना के बाद बच्चों की शादियां नहीं होंगी और ना ही कहीं रोजगार मिलेगा। इस पीढ़ी का जीवन खराब कर रहे हैं।’ कैलाश विजयवर्गीय के बयान पर सत्यपाल मलिक ने कहा है कि ‘कैलाश विजयवर्गीय ने बेहद अपमानजनक बात कही है। इसके लिए उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए। फैक्ट तो यह है कि विजयवर्गीय गार्ड बनने लायक हैं, लोकतंत्र की वजह से एमपी बन गये हैं।’ 

सत्यपाल मलिक ने युवाओं से अपील करते हुए कहा है कि किसी भी कीमत पर हिंसा ना करें लेकिन ताकत और एकता के साथ संघर्ष करें, इसे वापस ले लिया जायेगा। प्रधानमंत्री से भी प्रार्थना है कि अगर आप अपना स्टैंड बदलते हैं तो आपका कुछ नहीं बिगड़ेगा। इसे जितनी जल्दी वापस ले लिया जाए तो अच्छा होगा।

बता दें कि अग्निपथ योजना को लेकर पूरे देश में जोरदार हंगामा हुआ था। योजना को विरोध कर रहे लोगों को कई राजनीतिक पार्टियों का समर्थन मिला था। बिहार और उत्तर प्रदेश में विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा भी हुई थी, बिहार में कई ट्रेनों में आग लगा दी गई थी। हालांकि सरकार ने साफ़ कर दिया है कि इस योजना को वापस नहीं लिया जायेगा। सेना की तरफ से कहा है कि जो लोग हिंसा में लिप्त पाए जाएंगे उनके लिए दरवाजे बंद हैं।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X