ताज़ा खबर
 

पहले ही दिन ठप हुई लखनऊ मेट्रो तो अखिलेश यादव ने ली चुटकी, जवाब मिला- काम बोलता है!

लखनऊ मेट्रो अपने सफर के पहले दिन ही तकनीकी खराबी आने की वजह से बीच में खड़ी हो गई। मेट्रो का उद्घाटन यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को ही किया था।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

लखनऊ मेट्रो अपने सफर के पहले दिन ही तकनीकी खराबी आने की वजह से बीच में खड़ी हो गई। मेट्रो का उद्घाटन यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को ही किया था। गृहमंत्री राजनाथ सिंह और राज्यपाल रामनाइक के साथ सफर का जायजा भी लिया था। अभी मेट्रो लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग रेलवे स्टेशन तक चल रही है। लखनऊ मेट्रो के पास अभी छह ट्रेन हैं, जिनमें एक रिजर्व में है बाकी पांच चलाई जा रही हैं। इनमें से एक ट्रेन चारबाग स्टेशन से ट्रांसपोर्ट नगर की तरफ वापस हो रही थी तो स्टेशन से करीब सवा किलोमीटर की दूरी पर अचानक बंद हो गई। पहले दिन मेट्रो में सफर कर रहे मुसाफिर इससे घबरा गए। करीब 1:30 घंटे मेट्रो खड़ी रही। उसके बाद इमरजेंसी गेट से सीढ़ी लगाकर मुसाफिरों को मेट्रो की पटरी पर उतारा गया। मेट्रो की पटरी से करीब 300 मीटर पैदल चलकर वो अगले स्टेशन दुर्गापुरी पहुंचे, जहां से दूसरी ट्रेन से उन्हें ट्रांसपोर्ट नगर भेजा गया। खराब मेट्रो को तकनीकी खराबी की जांच के लिए डिपो ले जाया जाएगा। फिलहाल मेट्रो की दो लाइनों में से एक चल रही है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मेट्रो के पहले ही दिन ठप होने पर योगी सरकार पर तंज कसा है। अखिलेश ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘लखनऊ मेट्रो तो पहले से ही बनकर तैयार थी, भारत सरकार ने सीएमआरएस के जरिए एनओसी देने में इतना लंबा वक्त लिया, फिर भी पहले ही दिन मेट्रो ठप!’

वहीं अखिलेश के ट्वीट पर कई यूजर्स ने अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। कई यूजर्स ने ट्वीट के समर्थन में अपना मत दिया तो कई यूजर्स ने अखिलेश के खिलाफ अपनी बात कही। राजपुतानी लिखते हैं, ‘कल तक तो कुछ और आज कुछ और। समाजवादियों से सीखो साइकिल के टायर कैसे बदलते हैं।’ राजपुतानी अन्य ट्वीट में लिखते हैं, ‘लगता है रेलवे ट्रेक आपकी नाक की तरह टेढ़ा है। इसलिए रुक गई मेट्रो। समाजवादियों का कहना है कि अखिलेश यादव ने मेट्रो का पूरा काम किया है। फिर भाजपा को पूर्ण बहुमत से यूपी वालों ने क्यों जिताया??’ संजीव सिंह लिखते हैं, ‘काम कुछ ज्यादा ही तेज था।’ सुदीप यादव लिखते हैं, ‘हर समाजवादी का काम बोलता रहा है। समाजवादी का काम बोल कम रहा है ढह ज्यादा रहा है।’ वहीं हुकुमदेव यादव लिखते हैं, ‘मतलब मेट्रो अच्छे से चले तो अखिलेश ने बनाई और खराब हो जाए तो मोदी ने कर दी। तुम्हारी गलती नहीं है, हो तो तुम मुलायम के।’ सुशांत सिंह लिखते हैं, ‘भाई रोड ट्रायल तो कराया था ना। अखिलेश भाई ने झंडी भी दिखाई थी।’ बीरबल यादव लिखते हैं, ‘अगर किसी महिला को 3 महीनों मे बच्चा हो जाए और उसका पति मोहल्ले मे लड्डू बाँटे तो मोहल्ले वाले हंसेंगे ही।’

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App