ताज़ा खबर
 

लोकसभा टीवी की पत्रकार ने की कश्मीरियों पर गोलियां दागने की वकालत, ट्विटर ने सस्‍पेंड किया अकाउंट

कश्मीर पर ही जागृति का एक और ट्वीट काफी वायरल हुआ था। उस ट्वीट में लिखा गया था कि ‘कश्मीरी घाटी के सभी लोगों को मार दिया जाए जिससे जनसंख्या में कुछ कमी आएगी और धरती माता का बोझ कम होगा।’

कश्मीर में पत्थरबाजी करते प्रदर्शनकारी। इस फाइल फोटो का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

लोकसभा टीवी में असिस्टेंट प्रोड्यूसर के तौर पर काम कर रहीं जागृति शुक्ला का ट्विटर अकाउंट सस्पेंड हो गया है। माना जा रहा है कि जागृति के आपत्तिजनक ट्वीट के कारण ट्विटर इंडिया ने उनका अकाउंट सस्पेंड कर दिया है। हालांकि अकाउंट सस्पेंड होने के बाद भी उनके विवादित ट्वीट्स के स्क्रीनशॉट वायरल हो रहे हैं। सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा कयास लगाए जा रहे हैं कि कश्मीरियों पर उनके विवादित ट्वीट के कारण ही उनका अकाउंट सस्पेंड हुआ है। जो स्क्रीनशॉट वायरल हो रहे हैं उसमें दिखा रहा है कि 7 नवंबर को जागृति ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से पेलेट गन से पीड़ितों की पुरानी तस्वीर रीट्वीट की। रीट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘इनपर तो पेलेट गन की जगह असली गोली का इस्तेमाल करना चाहिए था। नतीजा और भी बेहतर होता।’ @MirwaizKashmir ने पेलेट गन पीड़ितों की तस्‍वीर पोस्‍ट करते हुए सुरक्षा बलों पर सवाल उठाया था। इसी को रीट्वीट करते हुए जागृति ने इन पर असली गोलियां दागने की वकालत करते हुए टिप्‍पणी की।

बता दें कि ये कोई पहला मौका नहीं है जब उनके अकाउंट से ऐसा ट्वीट हुआ हो। कश्मीर पर ही जागृति का एक और ट्वीट काफी वायरल हुआ था। उस ट्वीट में लिखा गया था कि ‘कश्मीरी घाटी के सभी लोगों को मार दिया जाए जिससे जनसंख्या में कुछ कमी आएगी और धरती माता का बोझ कम होगा।’

जागृति शुक्ला के पुराने ट्वीट का स्क्रीनशॉट।

कासगंज हिंसा के दौरान भी जागृति के एक ट्वीट के चलते ट्विटर ने कार्रवाई की थी। तब जागृति शुक्ला ने ट्वीट कर लिखा था, ‘उन्‍होंने हमें ट्रेन में मारा, हमारे विमान लूटे, होटल में हमें बंधक बनाया, हमें कश्‍मीर से भागने पर मजबूर किया और अब गणतंत्र दिवस पर तिरंगा फहराने के लिए मार रहे हैं। सच ये है कि हम डर में रहते हैं, वो नहीं, अब और नहीं। हमेशा घातक हथियार साथ में रखिए। उन्‍हें मार दीजिए, इससे पहले वो हमें मार दें।’

जागृति शुक्ला के पुराने ट्वीट का स्क्रीनशॉट।

जी न्यूज की पूर्व एंकर जागृति शुक्ला को इसी साल मई के महीने में लोकसभा टीवी ने असिस्टेंट प्रोड्यूसर बनाया है। उस वक्त भी सोशल मीडिया में काफी हो हल्ला मचा था। लोगों का कहना था कि जो इस तरह से सोशल मीडिया पर नफरत फैलाते हैं उन्हें सरकारी इनाम मिल रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App