ताज़ा खबर
 

ट्विटर पर जबरदस्‍त ट्रोल हुए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद, दी थी मुलायम-मायावती को एक होने की सलाह

लालू ने कहा,"भाजपा को हराने के लिए मायावती और मुलायम सिंह यादव समेत सभी धर्मनिरपेक्ष पार्टियों को एकसाथ आना चाहिए। अगर ऐसा होता है तो भाजपा की रणनीति धाराशाई हो जाएगी।

लालू यादव ने बीजेपी और मोदी के ‘विजय रथ’ को रोकने की बताई तरकीब तो लोगों ने उड़ाया मजाक।

उत्तर प्रदेश समेत 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी के प्रदर्शन को देखकर विपक्षी नेता और दल परेशान है। यूपी की जनता ने बीजेपी को रिकॉर्ड बहुमत देकर समाजवादी पार्टी (एसपी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) को करारा जवाब दिया। चुनाव से पहले और अब नजीतों के बाद कई नेता मायावती और मुलायम सिंह को साथ आने की सलाह दे रहे हैं। बीजेपी के विजय रथ को रोकने के लिए लालू प्रसाद यादव ने सपा और बसपा को साथ आने की सलाह दी है। लालू ने अपने ट्वीट में लिखा- “यूपी में मायावती और मुलायम एक हो जाएं। बिहार में हम लोग एक हैं, बीजेपी का सारा तमाशा खत्म हो जाएगा। अब ये विकास की बात नहीं करते।” लालू के इस ट्वीट के बाद लोगों ने उन पर जोरदार निशाना साधा है। माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद जबरदस्त ट्रोल हुए।

HOT DEALS
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16699 MRP ₹ 16999 -2%
    ₹0 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

लालू यादव ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी बीजेपी को हारने के लिए मायावती और मुलायम सिंह यादव समेत सभी धर्मनिरपेक्ष ताकतों से एकसाथ आने का आग्रह किया। लालू ने कहा,”भाजपा को हराने के लिए मायावती और मुलायम सिंह यादव समेत सभी धर्मनिरपेक्ष पार्टियों को एकसाथ आना चाहिए। अगर ऐसा होता है तो भाजपा की रणनीति धाराशाई हो जाएगी। उत्तर प्रदेश में सामाजिक न्याय के वोट के बंटवारा होने के कारण बीजेपी के जीत हुई है। वहीं, पंजाब, बिहार में वोट का बंटवारा नहीं होने के कारण बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है। विधानसभा चुनाव से पहले भी कई नेताओं ने सपा और बसपा को साथ मिलकर चुनाव लड़ने की नसीहत दी थी। हालांकि दोनों ही पार्टियां इस पर अंत तक सहमत नहीं हुई। बसपा और सपा को एक-दूसरे की धुर विरोधी पार्टियां मानी जाती है। जिस तरह से कभी लालू की पार्टी ‘आरजेडी’ और नीतीश की पार्टी ‘जेडीयू’ को माना जाता था।