ताज़ा खबर
 

“जहाजवा ही चुरा कर खाने लग गए वो भी लड़ाकू….ऊ भी मिसाइल से लैस गजबे बा…”

राफेल लड़ाकू विमान डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर विपक्ष इन दिनों सत्तारूढ़ भाजपा पर हमलवार है। चारा घोटाले में जेल की सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव के ट्विटर हैंडल से भी राफेल घोटाले पर चुटकी ली गई है।

राजद प्रमुख लालू प्रसाद

राफेल लड़ाकू विमान डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर विपक्ष इन दिनों सत्तारूढ़ भाजपा पर हमलवार है। चारा घोटाले में जेल की सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव के ट्विटर हैंडल से भी राफेल घोटाले पर चुटकी ली गई है। ये ट्विटर अकाउंट लालू प्रसाद के परिवार की सलाह से उनकी मीडिया टीम के द्वारा चलाया जाता है।

लालू प्रसाद यादव के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से सोमवार (24 सितंबर) को ट्वीट किया गया। ट्वीट में कहा गया, ”जहाजवा ही चुरा कर खाने लग गए वो भी लड़ाकू….ऊ भी मिसाइल से लैस। गजबे बा….” वैसे बता दें कि ये ट्वीट इस ट्विटर अकाउंट से लालू प्रसाद के विपक्षी नेताओं के पूर्व में दिए गए बयानों की तर्ज पर ही दिया गया है। जब लालू प्रसाद का नाम चारा घोटाले में आया था, उस समय लोगों ने कहा था कि घोटाले के आरोपी पशुओं का चारा तक खा गए।

ट्वीट होते ही इस पर लगातार कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। कुछ यूजर्स ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को इस ट्वीट के लिए आड़े हाथों लिया। उन्होंने चारा घोटाले मेें लालू प्रसाद की भूमिका और उनके जेल में बंद होने पर तंज कसे। जबकि कुछ यूजर्स ने पीएम मोदी पर लालू प्रसाद यादव के रास्ते का ही अनुसरण करने का आरोप लगाया। आपको बता दें कि लालू इन दिनों बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले मामले में सजा काट रहे हैं।

वहीं देश की मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस का आरोप है कि केन्द्र की एनडीए सरकार ने, यूपीए सरकार के कार्यकाल में हुई राफेल लड़ाकू ​विमान सौदे में पहले से कहीं अधिक कीमत पर नई डील की है। इसके साथ ही कांग्रेस ने भारत की ओर से इस सौदे में रिलायंस को साझेदार कंपनी बनाए जाने पर भी सवाल खड़े किए हैं। कांग्रेस का कहना है कि HAL की बजाए सौदे से कुछ दिन पहले ही बनी रिलायंस डिफेंस को साझेदार बनाया गया है। कांग्रेस का आरोप है कि इस डील के जरिए अनिल अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस को कथित तौर पर 30,000 करोड़ का फायदा पहुंचाया गया।

इसके अलावा हाल ही में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने खुलासा करते हुए बताया था कि भारत सरकार ने ही इस डील के लिए रिलायंस का नाम सुझाया था। फ्रांस्वा ओलांद के इस खुलासे के बाद कांग्रेस राफेल डील को लेकर और भी ज्यादा आक्रामक हो गई है। ओलांद के खुलासे के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पीएम मोदी की इस मुद्दे पर चुप्पी पर सवाल खड़े किए।

राहुल गांधी ने कहा कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद पीएम मोदी को ‘चोर’ कह रहे हैं। हालांकि भाजपा रफाल डील को ‘चुनावी मुद्दा’ बनाने के लिए कांग्रेस की आलोचना कर रही है। वहीं अनिल अंबानी के नेतृत्व वाले रिलायंस ग्रुप ने भी अपना और सरकार का बचाव किया है। रिलायंस का कहना है कि उसे कॉन्ट्रैक्ट दिलाने में सरकार की कोई भूमिका नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App