ताज़ा खबर
 

SC के फैसले के बाद कुमार विश्वास का तंज: कबीले की फ्रिक किसी को नहीं..सब इस पे लड़ रह हैं कि सरदार कौन हो

दिल्ली में आप सरकार बनाम एलजी के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को बड़ा फैसला सुनाया है। पांच जजों की संविधान पीठ ने लंबे समय से चले आ रहे इस मामले में कहा कि एलजी के पास स्वतंत्र अधिकार नहीं है, उन्हें राज्य की कैबिनेट और उसके मंत्रियों के साथ मिलकर काम करना चाहिए।

कुमार विश्वास (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

दिल्ली के मामले में उपराज्यपाल और आप सरकार के बीच छिड़ी जंग पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आम आदमी पार्टी (आप) के बागी नेता कुमार विश्वास ने ट्वीट के जरिए जमकर तंज कसा है। विश्वास ने आप सरकार और केंद्र, दोनों में से किसी का भी नाम लिए बगैर मेराज फैजाबादी की गजल के माध्यम से तंज कसा। उन्होंने कहा, ‘किस को ये फिक्र है की कबीले का क्या हुआ? सब इस पे लड़ रहे हैं कि सरदार कौन हो…!’

दरअसल, दिल्ली में आप सरकार बनाम एलजी के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को बड़ा फैसला सुनाया है। पांच जजों की संविधान पीठ ने लंबे समय से चले आ रहे इस मामले में कहा कि एलजी के पास स्वतंत्र अधिकार नहीं है, उन्हें राज्य की कैबिनेट और उसके मंत्रियों के साथ मिलकर काम करना चाहिए। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि एलजी को प्रशासनिक काम-काज में बाधा नहीं डालनी चाहिए। कोर्ट ने अपने फैसले में सबसे बड़ी बात यह कही कि हर मामले में एलजी की अनुमति जरूरी नहीं है। कोर्ट के इस फैसले से एलजी को जोरदार झटका लगा है।

वहीं दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर कोर्ट ने साफ कर दिया है कि ऐसा होना मुमकिन नहीं है। कोर्ट के इस फैसले से केजरीवार सरकार को जमकर झटका लगा। कोर्ट के एक फैसले से जहां बीजेपी को राहत मिली है तो वहीं दूसरे फैसले से केजरीवाल को राहत मिली है। दिल्ली के मामले में फैसला आने के बाद दोनों पार्टी के नेताओं ने बयान भी दे दिए हैं। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने इस निर्णय को ‘अराजकतावादी’ केजरीवाल के लिए एक बड़ा झटका बताया और कहा कि अब आम आदमी पार्टी(आप) को काम करके दिखाना होगा। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, “हमने केजरीवाल को धरना और अराजकता की राजनीति करते देखा है। उन्होंने कभी भी सौहार्द्र से काम करने की कोशिश नहीं की। सर्वोच्च न्यायालय ने केजरीवाल को जबरदस्त झटका दिया है। उन्हें अब अराजकता की राजनीति छोड़कर शासन की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए।” वहीं आप के प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा कि बैजल के पास अब वे अधिकार नहीं रहे और अब केंद्र को चुनी हुई सरकार को काम करने ही देना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App