ताज़ा खबर
 

फ्लिपकार्ट हेल्‍पलाइन पर कॉल करने से मिल रही बीजेपी की सदस्‍यता? लोग कर रहे शिकायत

आप इयरफोन के लिए पैसे दें और बदले में आपको भाजपा की प्राथमिक सदस्यता मिल जाए तो आप क्या करेंगे? ये कोई मजाक नहीं है, कोलकाता में एक शख्स के साथ ठीक ऐसा ही वाकया पेश आया है।

र्इ-कॉमर्स साइट फ्लिपकार्ट ने ग्राहक को उसका चुकाया हुआ पैसा लौटाने का वादा किया है।

अगर आपको कहीं से नींबू मिल जाएं तो आप उनसे शिकंजी बना सकते हैं। लेकिन जब आप इयरफोन के लिए पैसे दें और बदले में आपको भाजपा की प्राथमिक सदस्यता मिल जाए तो आप क्या करेंगे? ये कोई मजाक नहीं है, कोलकाता में एक शख्स के साथ ठीक ऐसा ही वाकया पेश आया है। एक उत्साही फुटबॉल फैन ने ई-कॉमर्स साइट​ फ्लिपकार्ट से दो जोड़ी इयरफोन आॅर्डर किए ​थे। उसने सोचा था कि वह बिना किसी को परेशान किए देर रात तक होने वाले फीफा विश्वकप के फुटबॉल मैच का लुत्फ उठा सकेगा। अंत में पैकेज आ गया। लेकिन इस पैकेट में उसके इयरफोन की जगह तेल की शीशी निकली।

किसी भी भड़के हुए शख्स की तरह उसने (ट्विटर पर गुस्सा नहीं निकाला) पैकेज पर छपे हुए कस्टमर केयर नंबर पर फोन किया। ताकि वह फ्लिपकार्ट के अधिकारियों को अपनी समस्या बता सके और अपने गुस्से का इजहार कर सके। लेकिन ग्राहक को ये नहीं पता था कि उसके लिए एक और सरप्राइज अभी उसका इंतजार कर रहा है।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 13989 MRP ₹ 16999 -18%
    ₹2000 Cashback

नाराज कस्टमर का फोन एक घंटी जाने के बाद कट गया। महज सेकेंड भर के भीतर ही उसके फोन पर एक मैसेज आ गया। मैसेज में लिखा था,”भाजपा में आपका स्वागत है।” जी हां, ये हुआ है। बल्कि इस संदेश में उसे पार्टी में शामिल होने पर प्राथमिक सदस्यता नंबर भी दिया गया है। इसके बाद उसने फ्लिपकार्ट पर दिए हुए टोल फ्री कस्टमर केयर नंबर पर एक से ज्यादा बार संपर्क किया। यहां तक कि उसने इसे अपने दोस्तों से भी साझा किया। हर किसी के मोबाइल पर भाजपा की तरफ से स्वागत का मैसेज आ गया।

हालांकि उसे बाद में अहसास हुआ कि वह गलत नंबर पर फोन कर रहा है। फ्लिपकार्ट के पैकेज पर दिया गया नंबर असल में भाजपा से संबंधित था। इस नंबर पर फोन करने के बाद आप पार्टी की सदस्यता ले सकते हैं। हालांकि बंगाल भाजपा ने इस बात से पूरी तरह से इंकार किया है कि उसका फ्लिपकार्ट से कोई लेना-देना है। वहीं फ्लिपकार्ट ने भी ये बात स्वीकार की है कि पैकेज पर दर्ज नंबर उसका तीन साल पुराना नंबर है।

लेकिन ये रहस्य अभी भी सुलझ नहीं सका है कि कैसे फ्लिपकार्ट का नंबर भाजपा के पास और फिर वापस उसके पैकेज तक कैसे पहुंचा। हालांकि, ट्विटर पर कई लोगों ने पोस्ट करने के बाद ऐसा दावा किया है कि अन्य कई उपभोक्ताओं को भी फ्लिपकार्ट के कस्टमर केयर पर कॉल करने के बाद ऐसी ही मुश्किल का सामना करना पड़ा है। फ्लिपकार्ट ने हेडफोन की जगह तेल की शीशी पाने वाले ग्राहक को उसका पैसा रिफंड करने का वायदा किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App