scorecardresearch

Congress का मतलब कुशासन, BJP का मतलब सुशासन-बोले केशव प्रसाद मौर्य तो लोगों ने कहा कि आ गए आग में घी डालने

केशव प्रसाद मौर्य ने अशोक गहलोत सरकार से दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने की मांग की है।

Keshav Prasad Maurya| UP deputy CM| BJP
यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (फोटो सोर्स: PTI/ फाइल)।

राजस्थान के उदयपुर में हुई कन्हैयालाल की हत्या पर हर कोई निंदा कर रहा है। सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग हो रही है। अब इस मामले की जांच के लिए NIA की टीम पहुंच गई है। हालांकि अब इस पूरे मामले को लेकर उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने कांग्रेस पर तंज कसा है।

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि ‘यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण और निर्मम हत्या हुई है। इस तरह की घटनाएं देश बर्दाश्त नहीं कर सकता है। इस तरह के लोगों पर कानूनन कार्रवाई तो होगी ही लेकिन ऐसे लोगों के लिए भारत में कोई स्थान नहीं होना चाहिए।’ इसके साथ ही केशव प्रसाद मौर्य ने अशोक गहलोत सरकार से दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने की मांग की है।

यूपी के उपमुख्यमंत्री ने कहा है कि ‘राजस्थान सरकार को ऐसे अपराधियों के लिए स्पेशल कोर्ट गठित कर कठोर से कठोर कार्रवाई सुनिश्चित करनी चाहिए।’ केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि भाजपा मतलब सुशासन और कांग्रेस मतलब कुशासन है। अभी वहां कुशासन है और भाजपा की सरकार आएगी तो सुशासन आएगा।

लोगों की प्रतिक्रियाएं: सिकन्दर हुसैन खान ने लिखा है कि ‘BJP का मतलब सुशासन ये पता ही नहीं था, यह आग समाज में इस देश के नेताओं ने ही लगाई है। सिर्फ वोटों की फसल काटने के लिए सारा समाज दूषित हो चुका है।’ मोहम्मद शोएब ने लिखा कि ‘केशव प्रसाद जी एक तांत्रिक ने आगरा में एक बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। उस विषय में क्या ख्याल है? आगरा में तांत्रिक द्वारा की गई हत्या सुशासन है या कुशासन है।’

अतुल सेठ ने लिखा कि ‘लो भैया मंत्री जी आ गए आग में घी डालने के लिए।’ रत्नाकर यादव ने लिखा है कि ‘रुपया लगातार गिरता चला जा रहा है, युवा बेरोजगार होता चला जा रहे हैं। GDP गर्त में चली गई है और जनाब हैं कि सुशासन की बात कर रहे हैं?’ अखिलेश नाम के यूजर ने लिखा कि ‘आप दूसरे राज्य के बारे में बोलते हैं लेकिन यूपी में कमलेश तिवारी जिसकी हत्या लखनऊ में हुई थी, उस पर क्या कार्रवाई हुई। आज तक पता नहीं चला।’

बता दें कि राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया लाल की इसलिए हत्या कर दी गई क्योंकि उन्होंने सोशल मीडिया पर नूपुर शर्मा के बयान का समर्थन किया था। हत्या करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मृतक कन्हैया लाल ने पुलिस में धमकी मिलने की शिकायत दर्ज करवाई थी। हालांकि पुलिस ने मामले को लेकर दोनों पक्षों में समझौता करवा दिया था। इसी मामले को लेकर राजस्थान सरकार निशाने पर आ गई है।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X