ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: बीजेपी सांसद स्वामी के साथ महिला IPS ने पोस्ट की सेल्फी, ट्विटर पर छिड़ी बहस

विनायक चौगाले ने लिखा, "मैम सिविल सर्वेंट को तटस्थ रहना चाहिए, यह नैतिक रूप से गलत है।" डी रूपा ने इनमें से कई लोगों को जवाब दिया। उन्होंने रजत मित्तल को लिखा, "कुछ अधिकारी सत्ता में बदलती पार्टियों के साथ ऊपर चढ़ते हैं और नीचे गिरते हैं, कुछ मुझे आश्चर्य होता है कि कोई भी पार्टी सत्ता में रहे वो अच्छी पोस्टिंग पा लेते हैं।"

कर्नाटक की आईपीएस डी रूपा और बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी (फोटो-twitter/@D_Roopa_IPS)

कर्नाटक की चर्चित आईपीएस ऑफिसर डी रूपा ने बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी के पास एक सेल्फी ट्विटर पर पोस्ट की है। उनकी यह सेल्फी सोशल मीडिया में विवादों में आ गई है। कई लोगों का कहना है कि एक सरकारी अधिकारी को एक पार्टी विशेष के नेता के साथ इस तरह की तस्वीरें नहीं पोस्ट करनी चाहिए। कर्नाटक पुलिस की आईजीपी होमगार्ड और सिविल डिफेंस डी रूपा ने बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी के साथ एक सेल्फी पोस्ट कर लिखा, “इस बहुमुखी व्यक्ति जिनकी शिकायत के बिना, वो औरत (जो बैंगलुरु जेल में ऐशो-आराम के साथ रह रही थी और जिसका खुलासा मैंने किया था) सबसे पहले तो जेल में आई ही नहीं होती, सर आप प्रेरणा देते हैं सुब्रह्मण्यम स्वामी।” डी रूपा के इस पोस्ट के बाद उनके ट्विटर अकाउंट पर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ लग गई। बता दें डी रूपा ने जेल में बंद शशिकला को मिल रही सुविधाओं का खुलासा किया था।

रजत मित्तल नाम के शख्स ने लिखा, “राजनेताओं को स्पॉन्सर करना उन्हें सपोर्ट करना कभी ठीक नहीं है, खास कर जब आप एक सिविल सर्वेंट हो, जिसे सत्ता में रहने वाली अलग-अलग पार्टियों के साथ काम करना पड़ता है, आप साफ साफ दिखा रही हैं कि आपका झुकाव बीजेपी की ओर है क्योंकि उन्होंने आपको रिवॉर्ड दिया है, आपको तटस्थ रहना चाहिए।” इसके जवाब में एक यूजर ने लिखा कि वो डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी के प्रति अपनी कृतज्ञता दिखा रही हैं, ना कि बीजेपी के सुब्रह्मण्यम स्वामी के प्रति।” सौर्य ए दास ने लिखा, “सच में मैम, इस ट्वीट से पहले मैं आपका बड़ा फैन था।” राजगोपाल कैमल ने लिखा, “ये दो बहादुर बुद्धिमानों का साथ है।”

विनायक चौगाले ने लिखा, “मैम सिविल सर्वेंट को तटस्थ रहना चाहिए, यह नैतिक रूप से गलत है।” डी रूपा ने इनमें से कई लोगों को जवाब दिया। उन्होंने रजत मित्तल को लिखा, “कुछ अधिकारी सत्ता में बदलती पार्टियों के साथ ऊपर चढ़ते हैं और नीचे गिरते हैं, कुछ मुझे आश्चर्य होता है कि कोई भी पार्टी सत्ता में रहे वो अच्छी पोस्टिंग पा लेते हैं। कुछ लोग हमेशा पीछे रहते हैं क्योंकि वो सरकार को आईना दिखाते हैं, बोलते हैं, रिपोर्ट करते है, वो बहुत कम तादाद में होते हैं, मैं उसी कैटेगरी से हूं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App