ड्राइवर से हारने वाला मंत्री बन गया और जीतने वाला सांसद ही रह गया – ज्योतिरादित्य सिंधिया के यूं मजे ले रहे लोग

नरेंद्र मोदी के कैबिनेट टीम में कई बड़े बदलाव किए गए। इस बार मंत्रिमंडल में कई युवा चेहरों, महिलाओं और पिछड़े वर्ग के लोगों को जगह मिली है, वहीं कई अहम चेहरे को कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखाया गया।

Modi Cabinet, Cabinet Resuffle
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (फोटो सोर्स – पीटीआई)

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला विस्तार बुधवार को किया गया। नरेंद्र मोदी के कैबिनेट टीम में कई बड़े बदलाव किए गए। इस बार मंत्रिमंडल में कई युवा चेहरों महिलाओं और पिछड़े वर्ग के लोगों को जगह मिली है, वहीं कई अहम चेहरे को कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखाया गया। पिछले साल कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को उड्डयन मंत्रालय का जिम्मा दिया गया।

बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया को अपनी परंपरागत सीट गुना से हार का सामना करना पड़ा था। जबकि उस समय मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार सत्ता पर काबिज थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराने वाले डॉ कृष्ण पाल सिंह यादव कभी उनके प्रतिनिधि हुआ करते थे, बाद में सिंधिया कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे। ऐसे में अब लोग सोशल मीडिया पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को ट्रोल कर रहे हैं।

ट्विटर पर लोग इस खबर पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिख रहे हैं कि हारने वाला मंत्री बन गया और डेढ़ लाख वोटों से जीतने वाला सांसद ही रह गया। एक ट्विटर यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा कि, ‘क्या विडम्बना है। डेढ़ लाख वोटों से हारने वाला आज कैबिनेट मंत्री बन गया और जीतने वाला डॉ. केपी यादव जीत कर भी हार गया। एक यूजर ने कमेंट किया कि ड्राइवर से हारने वाला मंत्री बन गया और जीतने वाला सांसद ही रह गया।

@PMLUCKNOW टि्वटर हैंडल से इस खबर पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा गया कि, ‘ये भी किस्मत है हारने वाले सिंधिया मंत्री बन गए और जीतने वाले केपी यादव सांसद रह गए।’ @DrRakeshsahai ट्विटर हैंडल से कमेंट किया गया कि सिंधिया को हराने वाला साधारण एमपी रह गया, क्योंकि इनका राजा जुगाड़ू है, जिसका कोई दीन धर्म नहीं, केवल सत्ता और सत्ता चाहिए। हारने वाला मंत्री बन गया क्योंकि इनकी नियति कायरता है, सदियों से।

वहीं एक यूजर ने लिखा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराने वाले डॉ कृष्ण पाल सिंह यादव जी सांसद ही रह गये, हारने वाला मंत्री बन गया। बीजेपी में पिछड़ा वर्ग मात्र वोट देने वाली वस्तु है। @Socialist_Tej टि्वटर हैंडल से लिखा गया कि हारने वाला कैबिनेट मंत्री बन गया और हराने वाला झोला ढ़ोएगा। जबतक आप इस रहस्य को नहीं समझिएगा, तब तक चंद लोभ-लालच के चक्कर में झोला ही ढ़ोइएगा।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट