ताज़ा खबर
 

पद्मावती: संजय लीला भंसाली पर भड़की एंकर, कहा- पसंदीदा एंकर्स को फ़िल्म दिखा सकते हैं तो करणी सेना को क्यों नहीं?

फिल्म पद्मावती को लेकर हो रहे विरोधों के बीच के बीच वरिष्ठ पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने स्पेशल स्क्रीनिंग पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

पत्रकार अंजना ओम कश्यप और पद्मावती के रूप में दीपिका पादुकोण (फोटो सोर्स- ट्विटर/@anjanaomkashyap/Screenshot/YouTube)

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती पर विवाद खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। करणी सेना द्वारा फिल्म को लेकर लगातार ही विरोध किया जा रहा है। ऐसे में फिल्‍म के प्रोड्यूसर्स ने कुछ पत्रकारों के लिए स्‍पेशल स्‍क्रीनिंग रखी थी, ताकि चीजें स्पष्ट हो सकें, जिसके बाद अरनब गोस्‍वामी और रजत शर्मा जैसे टीवी पत्रकारों ने पद्मावती का समर्थन किया था। पत्रकारों के समर्थन के बाद भी पद्मावती की राह की मुश्किलें कम नहीं हुईं, करणी सेना अभी भी फिल्म के विरोध में ही है। वहीं अब इन सब विरोधों के बीच वरिष्ठ पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने स्पेशल स्क्रीनिंग पर सवाल खड़े कर दिए हैं। उन्होंने भंसाली पर भड़कते हुए ट्वीट किया और कहा, ‘अगर संजय लीला भंसाली अपने पसंदीदा एंकर्स को फिल्म दिखा सकते हैं तो करणी सेना को क्यों नहीं? राजपूत क्षत्राणियों को क्यों नहीं?’ अंजना के ट्वीट के बाद सोशल मीडिया यूजर्स के एक धड़े ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। कुछ लोगों का कहना है कि अंजना को फिल्म नहीं दिखाई गई, शायद इसलिए ही वे गुस्से में हैं।

केवल अंजना ने ही नहीं बल्कि टीवी पत्रकार रोहित सरदाना ने भी स्पेशल स्क्रीनिंग पर सवाल खड़ा किया था। उन्होंने फिल्म की स्क्रीनिंग को लेकर अपना गुस्सा जताते हुए कहा था कि आगे से संपादकों से ही फिल्मों को सर्टिफिकेट लेना चाहिए। बोर्ड के बजाय उन्हीं को फिल्में दिखाई जानी चाहिए। पद्मावती को लेकर राजपूत करणी सेना देश के कई हिस्सों में विरोध कर रही है। सेना का कहना है कि फिल्म में इतिहास से छेड़छाड़ की गई है। राजपूतों की छवि को इसमें खराब किया गया है। जबकि, निर्देशक और निर्माताओं का दावा कि इसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। यही स्पष्ट करने के लिए शुक्रवार को निर्माताओं ने पत्रकारों से लिए स्पेशल स्क्रीनिंग का बंदोबस्त कराया गया था।

वहीं दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह स्टारर फिल्म पद्मावती की स्पेशल स्क्रीनिंग को लेकर सेंसर बोर्ड भी काफी खफा है। बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने इस पर कहा, “बोर्ड ने अभी तक फिल्म नहीं देखी है। न ही उसे सर्टिफिकेट जारी किया गया है। मगर निर्माताओं को इसकी स्पेशल स्क्रीनिंग नहीं रखनी चाहिए थी। ऊपर से चैनलों की ओर फिल्म समीक्षा किया जाना बेहद अफसोसजनक है।” आपको बता दें कि फिलहाल तो फिल्म ‘पद्मावती’ की रिलीज डेट आगे खिसका दी गई है। यानि यह फिल्म अब 1 दिसंबर को रिलीज नहीं होगी। हालांकि मेकर्स द्वारा अब तक इस बात की घोषणा नहीं की गई है कि फिल्म की नई रिलीज डेट क्या होगी लेकिन कहा जा रहा है कि फिल्म को अगले साल जनवरी में रिलीज किया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App