ताज़ा खबर
 

‘इन देशद्रोहियों ने हमारे गरीब गुंडों को ठीक से लाठी भी नहीं भांजने दी’, JNU प्रेसिडेंट आईशी घोष पर FIR से भड़के जावेद अख्तर

दिल्ली पुलिस के मुताबिक उसने जेएनयू प्रशासन की शिकायत के बाद छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष और अन्य छात्रों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इन सभी छात्रों पर 4 जनवरी को सर्वर रूम में तोड़फोड़ करने और मौजूद सुरक्षा गार्ड से मारपीट करने का आरोप है।

Author Published on: January 7, 2020 2:03 PM
जावेद अख्तर ने JNU प्रेसिडेंट आईशी घोष पर FIR को समझ से परे बताते हुए पुलिस पर गुस्सा निकाला है।

रविवार 5 जनवरी को जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में हुई हिंसा पर देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रदर्शनकारी हिंसा में सामिल लोगों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। हालांकि इस घटने के 2 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। इस बीच, पुलिस ने जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष समेत 19 लोगों पर एफआईआर दर्ज की है। इन सभी पर तोड़फोड़ और मारपीट के आरोप लगे हैं। आईशी घोष पर एफआईआर की खबर से मशहूर गीतकार जावेद अख्तर भड़क गए हैं। जावेद अख्तर ने इसे समझ से परे बताते हुए पुलिस पर गुस्सा निकाला है।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक उसने जेएनयू प्रशासन की शिकायत के बाद छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष और अन्य छात्रों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इन सभी छात्रों पर 4 जनवरी को सर्वर रूम में तोड़फोड़ करने और मौजूद सुरक्षा गार्ड से मारपीट करने का आरोप है। जेएनयू प्रशासन मे पांच जनवरी को शिकायत की थी, जिसके बाद एफआईआर दर्ज की गई।

आईशी पर एफआईआर से काफी गुस्से में नजर आ रहे अख्तर ने ट्वीट कर तंज कसते हुए कहा, ‘JNUSU अध्यक्ष के खिलाफ एफआईआर समझ से परे है। आखिर उसने कैसे हाथ में लोहे की रॉड वाले राष्ट्रवादियों, देश प्रेमियों को अपने सिर से रोकने का साहस किया। ये देशद्रोहियों ने हमारे गरीब गुंडों को ठीक से लाठी भी नहीं भांजने दिया। उन्होंने हर बार अपना शरीर सामने कर दिया। मुझे पता है कि उन्हें चोट पसंद है।’

 

बता दें कि 5 जनवरी की शाम करीब 100 नकाबपोश बदमाश जेएनयू परिसर में दाखिल हुए और छात्रों को पीटने लगे। इन हमलावरों ने लड़कियों और टीचर्स को बी नहीं बख्शा। इन हमलावरों के हाथ में लोहे की रॉड और लाठी-डंडे थे। नकाबपोश हमलावरों की तस्वीरें और वीडियोज सोशल मीडिया में वायरल भी हुए थे। अभी तक किसी भी हमलावर की पहचान दिल्ली पुलिस नहीं कर पाई है जिस कारण कोई गिरफ्तारी भी नहीं हुई है।

इधर गाजियाबाद के हिंदू रक्षा दल ने इस पूरी हिंसा की जिम्मेदारी ली है। इस संगठन के अध्यक्ष पिंकी चौधरी ने दावा किया कि 5 जनवरी को जेएनयू में हमला उन्हीं के लोगों ने किया था। पिंकी चौधरी भी दिल्ली पुलिस के रडार में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 VIDEO: ‘वामपंथ की भी कब्र खुदेगी सांवरकर की धरती पर’, ऐसे नारे लगाते लड़कों का वीडियो हो रहा वायरल
2 ‘JNU मेन गेट पर कुछ करना है’, बरखा दत्‍त ने शेयर क‍िया व्‍हाट्सऐप स्‍क्रीनशॉट, कांग्रेस ने दी सफाई
3 ‘रंगा-बिल्ला चाहते हैं कि हम आपस में लड़कर मर जाएं’, JNU हिंसा पर फूटा एक्टर एजाज खान का गुस्सा
ये पढ़ा क्या?
X