ताज़ा खबर
 

कॉकरोच पर टि्वटर यूजर्स ने की ट्रोल करने की कोशिश, नाराज जावेद अख्तर ने कहा- थर्ड ग्रेड कोशिश

इससे पहले जावेद अख्तर ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी को उनके नपुंसक वाले बयान को लेकर भी खूब लताड़ लगाई थी।

गीतकार और फिल्म लेखक जावेद अख्तर। (फाइल फोटो)

गीतकार और लेखक जावेद अख्तर ने ट्विटर पर उन्हें ट्रोल करने की कोशिश कर रहे यूजर को आड़े हाथों लिया है। सोमवार (1, जनवरी) को एक यूजर माई नेम इज सत्या ने अख्तर पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, ‘सबाना जी: आज न्यू ईयर के लिए खाने में क्या बनाऊं? जावेद अख्तर का जवाब: धूप और कॉकरेच।’ जिसका जवाब देते हुए जावेद अख्तर ने लिखा, ‘मेरा ऐसा ख्याल है कि जिन में सेंस ऑफ ह्यूमर नहीं हो उनको कोशिश भी नहीं करनी चाहिए। तीसरे तर्जे का परिणाम निकलता है। बाकी आपकी मर्जी।’

दरअसल इस विवाद की शुरुआत तब हुई जब एक अन्य यूजर ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘अख्तर एक बहुत अच्छे कवि हो सकते हैं, लेकिन सोशल मीडिया की बदौलत हम यह जान गए हैं कि वह बहुत ही कट्टर हैं।’ इस ट्वीट पर अख्तर ने कड़े शब्दों में अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए ट्वीट में लिखा था- मैंने अपनी जिंदगी में ऐसे कई कॉक्रोच देखे हैं, जिनका आईक्यू तुमसे ज्यादा है। मैं तुम्हारी कुंठा समझ सकता हूं, तुम कुछ नहीं हो और तुम बिना कुछ करे ही मर भी जाओगे। तुम किसी भी काम के लायक नहीं हो और इसमें मेरी कोई गलती नहीं है। मैं तुम्हारा बाप नहीं हूं।

वहीं इस विवाद के बीच में पड़े फिल्म निर्देशक तक को उन्होंने चेतावनी डे डाली। अख्तर ने लिखा, ‘विवेक जी आप बीच में मत आइये। ये वे ट्रेल्स हैं जो बार-बार शिष्टता की लाइन पार करते जा रहे हैं। अब मैंने फैसला कर लिया है कि जब भी वे भद्दे कमेंट करेंगे, मैं उन्हें सूद समेत चुकाऊंगा। इससे पहले फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने जावेद अख्तर को ट्विटर का ज्ञान देते हुए लिखा था, ‘यहूदियों ने हिंसा, बलात्कार और हत्या की कारणों के अलावा हिटलर से इसलिए भी नफरत की क्यों कि उसने लोगों को कॉकरोच समझा था। किसी को उसके नाकारापन का अहसास कराना ठीक नहीं हैं क्योंकि अपेक्षाकृत हम भी ‘कुछ नहीं’ हो सकते हैं।’

एक और ट्वीट में अग्निहोत्री ने लिखा- यहां तक की हॉलीवुड के सबसे बड़े कलाकार भी ‘कुछ नहीं’ होने की श्रेणी में आते है। वॉशिंगटन डीसी के सबसे शक्तिशाली नेताओं के साथ भी यही है। ब्रह्मांड की योजना में धरती भी ‘कुछ नहीं’ के बराबर है। जब हम प्रकृति का प्रकोप झेलते हैं तब हम उससे नहीं कहते हैं कि वह ‘कुछ नहीं’ नहीं है। असली ‘कुछ नहीं’ वह ईश्वर है जिसे हमने नहीं देखा है।

इससे पहले अख्तर ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी को उनके नपुंसक वाले बयान को लेकर भी खूब लताड़ लगाई थी। उन्होंने कहा थी कि यह बात कह कर ओवैसी ने बदजुबानी की सारी हदें पार की हैं। उनको इस पर शर्म आनी चाहिए। दरअसल ओवैसी ने हाल ही में विश्व हिंदू परिषद को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App