ताज़ा खबर
 

मुगलों को देशद्रेही बताने वालों पर बरसे जावेद अख्तर, बोले- हमें नाज है कि हम अकबर के देश में पैदा हुए

जावेद अख्तर ने कहा- जब-जब हिंदुस्तान के महान शख्सियतों की बात दुनिया में कहीं भी होती है तो उसमें अकबर का नाम जरूर आता है।

गीतकार जावेद अख्तर

बॉलीवुड के मशहूर गीतकार और पूर्व राज्यसभा सांसद जावेद अख्तर ने मुगलों को देशद्रोही बताने वालों पर जमकर हमला बोला है। जावेद अख्तर ने कहा कि ये लोग जो इस तरह की बातें करते हैं ये लोग बेवकूफ हैं। जावेद अख्तर ने ये बातें हिंदी न्यूज चैनल आज तक के एक कार्यक्रम में कहीं। जावेद अख्तर ने संजय लीला भंसाली की पद्मावती पर चल रहे विवाद पर भी अपनी बात रखते हुए कहा कि इसकी कहानी सलीम-अनारकली की तरह ही नकली है। आपको बता दें कि जावेद अख्तर एक शायर होने के बावजूद सामाजिक और राष्ट्रीय मुद्दों पर भी खुल कर अपनी बात रखते रहते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ आज तक के कार्यक्रम में। इस कार्यक्रम में जब उनसे पूछा गया कि जब अकबर रोड का नाम बदलने की बात होती है तो आपको गुस्सा क्यों आ जाता है। इस पर जावेद अख्तर ने कहा कि ऐसा करने वाले लोग अकबर को ठीक तरह से जानते ही नहीं हैं। जब-जब हिंदुस्तान के महान शख्सियतों की बात दुनिया में कहीं भी होती है तो उसमें अकबर का नाम जरूर आता है। अकबर के बारे में गलत सोच रखने वाले अगर अकबर का इतिहास पढ़ लें तो उन्हें नाज होगा कि वो अकबर के देश में पैदा हुए हैं।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback
  • MICROMAX Q4001 VDEO 1 Grey
    ₹ 4000 MRP ₹ 5499 -27%
    ₹400 Cashback

पद्मावती फिल्म पर चल रहे विवाद में एक टीवी डिबेट का हवाला देते हुए जावेद अखतर ने कहा, “टीवी पर इतिहास के एक प्रोफेसर को सुन रहा था। वो बता रहे थे कि ‘पद्मावती’ की रचना और अलाउद्दीन खिलजी के समय में काफी फर्फ था। जायसी ने जिस वक्त इसे लिखा और खिलजी के शासनकाल में करीब 200 से 250 साल का फर्क था। इतने साल में जब तक कि जायसी ने पद्मावती नहीं लिखी, कहीं रानी पद्मावती का जिक्र ही नहीं है।”

नई पीढ़ी को इतिहास की सलाह देते हुए जावेद साहब ने कहा, “फिल्मों को इतिहास मत समझिए और इतिहास को भी फिल्म से मत समझिए। हां, आप गौर से फिल्में देखिए और आनंद लिजिए, इतिहास में रुचि है, तो गंभीरता से इतिहास पढ़िए, तमाम इतिहासकार हैं उन्हें आप पढ़ सकते हैं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App