ताज़ा खबर
 

जन्‍माष्‍टमी पर PETA की अपील- गाय खुश रहें इसलिए दूध न इस्‍तेमाल करें, भड़के भारतीय

पेटा इंडिया ने इस जन्माष्टमी गाय का दूध का इस्तेमाल न करने की अपील की है। इस पर भारतीय भड़क गए और कहा कि पेटा हमें शिक्षा न दें। हम जानते हैं कि हमें अपना त्योहार कैसे मनाना है। हिंदू धर्म एक जीवन पद्धती है। आप हमे न सिखायें।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

पशुओं के अधिकारों के लिए आवाज उठाने वाली संस्था पेटा इंडिया ने इस जन्माष्टमी गाय का दूध का इस्तेमाल न करने की अपील की है। पेटा इंडिया ने ट्वीट कर कहा, “गायों को खुश रखने के लिए शाकाहारी घी और अन्य गैर-डेयरी उत्पादों का उपयोग करके जानमष्टमी का जश्न मनाएं।” पेटा के इस ट्वीट पर भारतीय भड़क गए। जमकर खरीखोटी सुनाई। कहा कि पेटा हमें शिक्षा न दें। हम जानते हैं कि हमें अपना त्योहार कैसे मनाना है। हिंदू धर्म एक जीवन पद्धती है। आप हमे न सिखायें।

अजय शुक्ला लिखते हैं, “बकरीद पर छुट्टी मनाने के बाद श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर दूध, दही, मक्खन पर ज्ञान बांटने आ गये पेटा वाले! इतना पाखंड लाते कहां से हो तुम लोग। कभी दोहन और शोषण का अंतर भी पढ़ के देखो।”

अवनिश चौबे लिखते हैं, “कृष्ण गाय के रक्षक हैं। उनका नाम गोविंद है, मतलब: जो गाय से प्यार और उसकी देखभाल करते हैं। हिंदुओं को यह सिखाने की जरूरत नहीं है कि गाय को कैसे प्यार करते हैं। हम गाय को नुकसान पहुंचाए बिना दूध और घी का इस्तेमाल करते हैं।”

एक अन्य यूजर लिखते हैं, “पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि गाय के दूध पर पहला अधिकार उसके बछड़े का है। जब बछड़ा अपना हिस्सा पूरा कर लेता है तो गाय संतुष्ट होती है, मनुष्य को गाय का दूध मिल सकता है। एक पूरी तरह से संतुष्ट गाय काफी दूध देती है। हिंदू गाय को सम्मान के साथ छूते हैं क्योंकि इससे सकारात्मक उर्जा मिलती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App