IAS officer Deleep Singh from manipur imphal supervises flood control work at chest deep water social salutes him - मणिपुर में बाढ़: छाती तक डूब IAS कर रहा राहत कार्यों की निगरानी, सोशल मीडिया ने किया सलाम - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मणिपुर में बाढ़: छाती तक डूब IAS कर रहा राहत कार्यों की निगरानी, सोशल मीडिया ने किया सलाम

बाढ़ नियंत्रण के सचिव दिलीप सिंह खुद बाढ़ प्रभावित इलाकों में पहुंचे। एक तस्वीर में वह छाती तक पानी में डूबे हैं, और एक लकड़ी के सहारे खड़े हैं। तस्वीर में कुछ लोग और भी आईएएस दिलीप सिंह के साथ खड़े हैं। ट्विटर पर लोगों इस ऑफिसर के कर्तव्य निष्ठा की तारीफ की है।

मणिपुर के आईएएस दिलीप सिंह (ब्लू शर्ट) में बाढ़ नियंत्रण का जायजा लेते हुए। (फोटो-twitter/@dev63)

मणिपुर के एक आईएएस ऑफिसर ड्यूटी के प्रति अपने समर्पण को लेकर चर्चा में है। इस ऑफिसर को सोशल मीडिया ने सलाम किया है। ट्विटर पर छाती तक पानी में डूबे इस ऑफिसर की एक तस्वीर वायर हो रही है। इस ऑफिसर के जज्बे को सब कोई सलाम कर रहे हैं। दरअसल मणिपुर की इंफाल घाटी में पिछले 24 घंटे से लगातार बारिश होने से अचानक बाढ़ आ गयी है। अधिकारियों ने बताया कि इंफाल पूर्व, इंफाल पश्चिम, थाउबॉल और बिशनपुर जिलों के निचले इलाकों में पानी भर गया है। सामान्य प्रशासन विभाग ने सभी सरकारी कार्यालयों एवं शैक्षणिक संस्थानों में 13 जून छुट्टी घोषित कर दी थी।

बाढ़ में कई फंसे लोगों तक राहत और बचाव कार्य पहुंचाने में सरकारी महकमा जुटा है। बाढ़ नियंत्रण के सचिव दिलीप सिंह खुद बाढ़ प्रभावित इलाकों में पहुंचे। एक तस्वीर में वह छाती तक पानी में डूबे हैं, और एक लकड़ी के सहारे खड़े हैं। तस्वीर में कुछ लोग और भी आईएएस दिलीप सिंह के साथ खड़े हैं। ट्विटर पर लोगों इस ऑफिसर के कर्तव्य निष्ठा की तारीफ की है। अनिता सभरवाल ने लिखा, “अमूमन हमें ऐसे IAS देखने को नहीं मिलते, दिलीप सिंह आप पर गर्व है। उद्योपति आनंद महिंद्रा ने इस अधिकारी की तारीफ की है। उन्होंने लिखा है, “रोजाना की जिंदगी के एक और हीरो, जैसे ही मुंबई का जवान बारिश में ड्यूटी कर रहा था, उसी तरह ये भी कमाल कर रहे हैं, चलिए जो भी मिले उनकी तारीफ करिए। सिद्धार्थ देववर्मन ने भी इस अधिकारी की तारीफ की है।

इधर शिक्षा निदेशालय (स्कूल) ने जिरिबाम जिले को छोड़कर पूरी इंफाल घाटी में सभी सरकारी एवं निजी विद्यालयों में दो दिनों के लिए अवकाश की घोषणा की है। वैसे बुधवार को बारिश कुछ देर के लिए थम गयी थी लेकिन मौसम विभाग ने 15 जून तक वर्षा होने का अनुमान लगाया है। थाउबॉल जिले में कम से कम सौ मकानों में उफनती थाउबॉल नदी का पानी घुस गया। ऐसे में लोगों ने राहत शिविरों में शरण ली। अधिकारियों के अनुसार राजधानी इंफाल के मिनुथोंग में इंफाल नदी अधिकतम बाढ़ स्तर पर बह रही है। इरिलबुंग और लिलोंग नदियां भी खतरे के निशान पर बह रही हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App