scorecardresearch

“मैं पाकिस्तान से नहीं कश्मीर के युवाओं से बात करना चाहता हूं”- कश्मीर में बोले अमित शाह, लोगों ने पूछे ऐसे सवाल

अमित शाह लंबे समय के बाद जम्मू-कश्मीर के दौरे पर हैं। बीते कुछ महीनों में कश्मीरी पंडितों, प्रवासी मजदूरों की टारगेट किलिंग बढ़ी है।

“मैं पाकिस्तान से नहीं कश्मीर के युवाओं से बात करना चाहता हूं”- कश्मीर में बोले अमित शाह, लोगों ने पूछे ऐसे सवाल
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह। (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस)

गृह मंत्री अमित शाह जम्मू कश्मीर के दौरे पर हैं, जहां उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए स्थानीय नेताओं और राजनीतिक पार्टियों पर जोरदार हमला बोला है। बुधवार को बारामूला में एक जनसभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि पिछले कुछ सालों में सीमा पार से आतंकवादियों के घुसपैठ में कमी देखी गई गई है। पाकिस्तान को संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि बॉर्डर पर सुरक्षा एजेंसियों को छूट दी गई है कि सीमा पर घुसपैठ कर रहे आतंकवादियों को करारा जवाब दें। इतना ही नहीं अमित शाह ने कहा कि कहा कि मैं कश्मीर के युवाओं से बात करूंगा।

कश्मीर के युवाओं से क्या बोले अमित शाह

शाह ने कहा कि ये लोग मुझे सलाह देते हैं कि पाकिस्तान से बात करो, जिन्होंने 70 साल तक यहां राज किया वो लोग सलाह देते हैं कि पाकिस्तान से बात करो लेकिन मेरा स्पष्ट मत है कि मैं पाकिस्तान के लोगों से बात नहीं करना चाहता। मैं यहां के लोगों से बात करना चाहता हूं। मैं कश्मीर के युवाओं से बात करना चाहता हूं..अमित शाह ने कहा कि जरा सोचिये, जिन लोगों ने दहशतगर्दी फैलाई उन्होंने क्या भला किया है?

लोगों की प्रतिक्रियाएं

अमित शाह के बयान पर सोशल मीडिया पर लोग अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। @wasiiyc यूजर ने लिखा कि पाकिस्तान से बात नहीं करते लेकिन बिरयानी खाने सीधा पाकिस्तान पहुंच जाते हैं। @Vikasfai यूजर ने लिखा कि भाषण दिया और जिम्मेदारी खत्म, हो गई बात युवाओं से। @hai_mahmoodul यूजर ने लिखा कि और बिन बुलाए पाकिस्तान चले जाते हैं, बताते नहीं है कि ये सब बातें क्या इशारा करती है?

@adfar_dar यूजर ने लिखा कि जम्मू कश्मीर में सरकार शांति स्थापन के लिए जो भी कुछ कर रही है, उसकी तारीफ की जानी चाहिए। @babulip91678096 यूजर ने लिखा कि राहुल गांधी को भारत जोड़ो यात्रा कश्मीर में करनी चाहिए और लंबे वक्त तक करनी चाहिए ताकि यहां ले लोगों में भरोसा जग सके। जनसभा से बुलेटप्रूफ पोडियम और बुलेट प्रूफ ग्लास हटवाना जम्मू कश्मीर की जनता के विश्वास को अटूट करने की तरफ उनका एक और साहसिक कदम है।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर पहुंचे अमित शाह ने सुरक्षा के हालातों की समीक्षा बैठक भी की है। जिसमें उपराज्यपाल मनोज सिन्हा और कई अन्य सीनियर अधिकारी भी समेत सीआरपीएफ और बीएसएफ के डीजी को भी इस बैठक में बुलाया गया था। यह बैठक आर्टिकल 370 हटने के बाद सुरक्षा के हालातों का जायजा लेने के लिए बुलाई गई थी। अमित शाह की राजौरी में हुई रैली में बड़े पैमाने पर भीड़ जुटी थी। इस मौके पर उन्होंने कहा कि अब जम्मू-कश्मीर की सत्ता तीन परिवारों से लेकर तीस हजार लोगों के हाथों में दे दी गई है।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 05-10-2022 at 03:58:49 pm