ताज़ा खबर
 

रामचंद्र गुहा ने पीएम मोदी पर लगाया सेल्‍फ प्रमोशन का आरोप, जवाब मिला- आईना देख लिया करो

एक यूजर ने लिखा, पीएम का ये फैसला खुद को भारत रत्न देने से तो अच्छा है।

संसद भवन में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के विदाई समारोह के लिए जाते पीएम मोदी और अन्य Photo-PTI

इतिहासकार रामचन्द्र गुहा ने पीएम नरेन्द्र मोदी की आलोचना की है और उनपर खुद को प्रमोट करने का आरोप लगाया है। रामचन्द्र गुहा ने सोमवार को ट्वीट किया और लिखा, ‘जब प्रधान सेवक प्रधान सेल्फ प्रमोटर बन जाए।’ दरअसल रामचन्द्र गुहा ने ये ट्वीट उस रिपोर्ट पर की है जिसमें बताया गया है कि केन्द्र सरकार ने पीएम मोदी की विशेषताओं को बताने के लिए विज्ञापन पर 11 सौ करोड़ रुपये खर्च किये। बता दें कि नवंबर 2016 में एक आरटीआई के जरिये खुलासा हुआ था कि केन्द्र सरकार ने सरकार की कामयाबियों को बताने के लिए विज्ञापन पर 11 सौ करोड़ रुपये खर्च किये। रामचन्द्र गुहा ने इस रिपोर्ट के आधार पर ट्वीट किया था। लेकिन सोशल मीडिया पर लोगों ने उन्हें इस ट्वीट के लिए जमकर खरी खोटी सुनाई। एक यूजर ने लिखा, पीएम का ये फैसला खुद को भारत रत्न देने से तो अच्छा है। एक यूजर ने लिखा कि इसमें गलत क्या है, मोदी भारत सरकार की योजनाओं के ब्रान्ड एम्बेसडर हैं और उन्हें सरकारी एड में आना चाहिए। राग नाम के यूजर ने लिखा कि जब प्रधान इतिहास का शिक्षक, कांग्रेस का प्रधान प्रचारक बन जाए तो यही होता है। एक यूजर का कहना है कि इतिहासकारों को दोनों पक्ष का ध्यान रखना चाहिए, कभी कभी आईना देख लेना फायदेमंद होता है।

बता दें कि रामचंद्र गुहा इससे पहले भी मोदी और बीजेपी सरकार की आलोचना कर चुके हैं। इससे पहले उन्होंने कहा था कि भारत को हिन्दू पाकिस्तान देख उन्हें चिंता होती है। कई लोग रामचंद्र गुहा पर कांग्रेस का समर्थक होने का आरोप लगाते हैं। इतिहासकार गुहा ने ये भी कहा है कि मोदी काफी काम करते हैं लेकिन पिछले तीन सालों में उन्होंने आरएसएस से दूरी बनाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है। रामचन्द्र गुहा ने इससे पहले सुझाव दिया था कि कांग्रेस की स्थिति सुधारने के लिए नीतीश कुमार को कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App