ताज़ा खबर
 

टीवी डिबेट में आरएसएस विचारक ने मौलाना से कहा- मारके … हड्डी तोड़ दूंगा, चैनल स्टाफ ने घसीट कर हटाया

जम्मू-कश्मीर विधानसभा में एक विधायक द्वारा पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने के मुद्दे पर चल रही बहस इतनी तल्ख हो गई कि नौबत लड़ाई तक की आ गई। आरएसएस विचारक संगीत रागी ऑल इंडिया इमाम काउंसिल के मौलाना साजिद रशीदी से हाथापाई पर उतारू हो गए।
आरएसएस विचारक संगीत रागी (बाएं) और मौलाना साजिद रशीदी

टीवी डिबेट में विपक्षी विचारधारा की अगुआई कर रहे पैनलिस्ट्स के बीच गर्मागर्म बहस के दृश्य आम बात हैं। हालांकि, बात इतनी बढ़ जाए कि नौबत हाथापाई की आ जाए और टीवी चैनल के स्टाफ को बीच-बचाव करना पड़े, ऐसा भारतीय न्यूज चैनलों पर शायद ही देखने को मिलता है। कुछ ऐसा ही वाकया न्यूज 24 पर आयोजित टीवी डिबेट के दौरान हुआ। जम्मू-कश्मीर विधानसभा में एक विधायक द्वारा पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने के मुद्दे पर चल रही बहस इतनी तल्ख हो गई कि नौबत लड़ाई तक की आ गई। आरएसएस विचारक संगीत रागी ऑल इंडिया इमाम काउंसिल के मौलाना साजिद रशीदी से हाथापाई पर उतारू हो गए। चैनल के स्टाफ को रागी को जबरन घसीटकर मौलाना से दूर करना पड़ा। इस दौरान एंकर मानक गुप्ता भी लगातार बीच-बचाव करते रहे।

कॉमर्शियल ब्रेक के दौरान हुई घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। इसमें आरएसएस विचारक संगीत रागी को कुछ लोग रोकते नजर आते हैं। वह मौलाना से कहते दिख रहे हैं, ‘मार के …तेरी हड्डी तोड़ दूंगा।’ वह बार-बार मौलाना की ओर बढ़ते नजर आते हैं जबकि बाकी लोग उन्हें रोक रहे हैं। वहीं, मौलाना कहते हैं, ‘मेरे सब्र का पैमाना टूट जाएगा। …सब लोग गवाह हैं, इस बात के।… एक लब्ज मैंने इसको बुरा नहीं बोला।’ इस दौरान एंकर मानक गुप्ता भी दोनों पैनलिस्ट को समझाते रहे। मानक गुप्ता रागी से कहते हैं, ‘यह मेरी जिम्मेदारी है कि मैं आपको बोलने का मौका दूंगा, लेकिन आप किसी के साथ ऐसा बिहेव नहीं करेंगे। यह बर्ताव स्वीकार्य नहीं है।’ वह रागी को शो से जाने के लिए कहते हैं। वीडियो यहीं खत्म हो जाता है।

नीचे देखें घटना का वीडियो

दरअसल, संगीत रागी डिबेट के दौरान मौलाना के टोकने से नाराज हो गए थे। रागी कह रहे थे कि जब तक कश्मीर में आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35ए खत्म नहीं होगा, तब तक राज्य में शांति नहीं आएगी। इस बात पर बगल में बैठे मौलाना साजिद रशीदी ने कहा कि सरकार जब बीजेपी की है तो हटवा दीजिए। इसी बात पर रागी भड़क गए और कहा, ‘यार अब बदतमीजी मत करो।’ जब मौलाना ने पूछा कि क्या यह बदतमीजी है तो रागी ने कहा, ‘चुप।’ इस पर मौलाना ने उनसे कहा, ‘औकात में रहो।’ इसी बात पर रागी बिगड़ गए और कहने लगे, ‘स्टॉप दिस मैन, ही इज ब्लडी इडियट।’ मौलाना ने जवाब में कहा, ‘इडियट आप हो।’ इसके जवाब में रागी ने उन्हें जाहिल, गद्दार और पाकिस्तानी एजेंट तक बता डाला। राशिद ने भी जवाब दिया, ‘हिम्मत है तो कार्रवाई करवा लो।’ ऐसा लगता है कि इन्हीं बातों से मामला इतना गर्म हुआ कि नौबत हाथापाई तक पहुंच गई।

पूरी डिबेट नीचे वीडियो में देखें (नेताओं की भिड़ंत 20वें मिनट के बाद होती है)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Bhardwaj KS
    Feb 16, 2018 at 2:54 pm
    आप हाथापाई की बात कर रहे हैं. सम्बिद पात्रा तो बहुत ही असभ्य व्यवहार करते हैं. श्री मानक गुप्ता तो भाजपा के दबाव में रहते ही हैं. सम्बिद कई बार ऐसे वक्तव्य दे चुके हैं: ये आप किन किन को पकड़ लाते हो? अरे ये कौन भौंक रहा है? ये पाकिस्तान के एजेंट है आदि आदि.
    (1)(0)
    Reply
    1. Priyanka Sharma
      Feb 15, 2018 at 7:16 pm
      Paid media and agents of congress are deliberately trying to tarnish the image of nationalist organisation like Sangh Parivar and its pracharaks.. Without even knowing the whole context of the matter they are setting up their propaganda upright. Provocation and abusive words were used by maulvi during the course of debate which led to such reaction by Mr Ragi who had maintained calm and composure till that time. Have some guts to publish true stories Jansatta rather than manufacturing stories of your own and stop licking boots of congress party.
      (2)(10)
      Reply
      1. Bhardwaj KS
        Feb 16, 2018 at 2:57 pm
        Even If You Are True Priyanka! Should Anyone Stoop So Low And Start Behaving Like Road Vagabonds?
        (1)(0)
        Reply
      2. Priyanka Sharma
        Feb 15, 2018 at 7:10 pm
        Paid media and agents of congress are deliberately trying to tarnish the image of nationalist organisation like Sangh Parivar and its pracharaks.. Without even knowing the whole context of the matter they are setting up their propaganda upright. Provocation and abusive words were used by maulvi during the course of debate which led to such reaction by Mr Ragi who had maintained calm and composure till that time. Have some guts to publish true stories Jansatta rather than manufacturing stories of your own and stop licking boots of congress party.
        (1)(19)
        Reply