ताज़ा खबर
 

‘टीम इंडिया में मुस्लिम प्लेयर नहीं’, संजीव भट्ट के आरोप पर हरभजन ने दिया मुंहतोड़ जवाब

हरभजन सिंह ने कहा- क्रिकेट में खेलने वाला हर खिलाड़ी हिंदुस्तानी है, उसकी जात या रंग की बात नहीं होनी चाहिए।

संजीव भट्ट के आरोप पर हरभजन ने दिया मुंहतोड़ जवाब

भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज स्पिनर हरभजन सिंह ने गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट के आरोपों का मुंहतोड़ जवाब दिया है। हरभजन सिंह ने भट्ट के ‘टीम इंडिया में मुस्लिम प्लेयर नहीं’ वाले बयान पर कुछ ऐसा कहा है जिसे जानकर हर भारतीय को गर्व होगा। हरभजन सिंह ने पूर्व आईपीएस अधिकारी के बयान पर ट्वीट करते हुए कहा, ‘हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई आपस में भाई हैं और क्रिकेट में खेलने वाला हर खिलाड़ी हिंदुस्तानी है, उसकी जात या रंग की बात नहीं होनी चाहिए।’

दरअसल संजीव भट्ट ने इंडियन टीम में मुस्लिम खिलाड़ी के ना होने पर सवाल खड़ा किया था और पूछा था कि क्या इस वक्त टीम में कोई मुस्लिम खिलाड़ी है? संजीव भट्ट ने ट्वीट कर कहा था, ‘क्या इस समय भारतीय क्रिकेट टीम में कोई मुस्लिम खिलाड़ी है? आजादी से आज तक ऐसा कितनी बार हुआ कि भारत की क्रिकेट टीम में कोई मुसलमान खिलाड़ी ना हो? क्या मुसलमानों ने क्रिकेट खेलना बंद कर दिया है? या खिलाड़ियों का चुनाव करने वाले किसी और खेल के नियम मान रहे हैं?’

हरभजन सिंह के ट्वीट पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए उनकी बात से सहमति जताई है। यूजर्स ने कहा है कि इंडियन होना ही सबसे बड़ा धर्म है और देश के लिए खेलने वाला हर खिलाड़ी हिंदुस्तानी है। मुस्लिम यूजर्स ने भी हरभजन की बात से सहमति जताई है। यूजर्स ने कहा है कि जो क्रिकेट जैसे खेल में भी अगर जाति-धर्म को ढूंढता हैं उस जैसा कोई अज्ञानी दुनिया में नहीं हैं, ऐसा समझो। सोशल मीडिया का एक धड़ा हरभजन सिंह की बात का समर्थन कर रहा है। लोगों का कहना है कि टैलेंट जरूरी है और खेल में जात नहीं होती। साथ ही लोगों ने यह भी कहा है कि देश हर खिलाड़ी को चाहता है, यहां हिंदू-मुस्लिम नहीं देखा जाता। जहां एक धड़ा हरभजन सिंह का समर्थन कर रहा है तो वहीं संजीव भट्ट के विचार पर लोग अपना गुस्सा भी निकाल रहे हैं। संजीव भट्ट के ट्वीट पर अभी तक 144 रिट्वीट्स हो चुके हैं और ज्यादातर लोगों ने उनकी बात से असहमति ही जताई है। कई लोगों ने संजीव भट्ट के आईपीएस होने पर ही सवाल खड़ा कर दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App