ताज़ा खबर
 

ऑस्ट्रेलियाई पत्रकारों का दावा- अडानी पर रिपोर्ट बनाने गए थे, गुजरात पुलिस ने डरा धमका कर भगाया

उनका आरोप है कि उन्हें पुलिस की तगड़ी पूछताछ और धमकियों का सामना करना पड़ा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एक कार्यक्रम के दौरान गौतम अडानी।

भारत में कुछ ऑस्ट्रेलियाई पत्रकारों के साथ पुलिस की कथित बदसलूकी का मामला सामने आया है। दरअसल कुछ ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार गुजरात की सबसे बड़ी कोयला खदान परियोजना पर काम कर रहे अडानी ग्रुप के पर्यावरण तथा अन्य ट्रैक रिकॉर्ड की जाँच करने गुजरात आए थे। उनका आरोप है कि उन्हें पुलिस की तगड़ी पूछताछ और धमकियों का सामना करना पड़ा। ये पत्रकार ऑस्ट्रेलिया के ‘4 कार्नर्स ’ चैनल के थे। फिलहाल यह टीम अपना काम पूरा करके वापस चली गई है। 4 कॉर्नर रिपोर्टर स्टीफ़न लॉँग के मुताबिक वे गुजरात मे मुंद्रा पहुंचकर अपना काम कर रहे थे, लेकिन अगले ही दिन पुलिस उनके होटल पहुंच गई। वे भारत में किए गए तमाम इंटरव्यू और फुटेज को बचाने की कोशिश करने लगे।

 


स्टीफ़न ने ट्विटर पर एक वीडियो जारी कर बताया कि, “ हमसे क़रीब 5 घंटे तक पूछताछ की गई। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी इस दौरान बार-बार मोबाइल पर बात करने के लिए कमरे से बाहर जाता था और लौटने पर उसका रुख़ और सख़्त हो जाता था। वे लोग अच्छी तरह जानते थे कि हम वहां क्यों आए हैं, लेकिन कोई भी ए (अडानी) शब्द मुंह से नहीं निकाल रहा था। पुलिस ने हमसे कहा कि अगर हम लोग वापस नहीं गए तो तीन ख़ुफ़िया एजेंसियों के लोग अगले दिन पूछाताछ करने आएंगे और हम लोगो जहां भी जाएंगे, क्राइम स्कावड के जासूस और स्थानीय पुलिस साथ होगी। ”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Oct 2, 2017 at 9:26 pm
    ऑस्ट्रेलियन पत्रकार साहब ! आप भाग्यशाली हैं की हिन्दोस्तान में जीवित बच गए ! यहाँ गौरी लंकेश ही नहीं बल्कि एम.एम.कल ्गी, नरेंद्र दाभोलकर, शांतनु भौमिक, गोविन्द पंसारे इत्यादिपत्रकारों को भी क़त्ल कर दिया गया ! गांधीजी की हत्या के साथ ही हिन्दोस्तान में फासीवाद की आहट आ गयी थी, जो बीजेपी राज्य में परवान चढ़ गयी है ! जो भी दक्षिणपंथी विचारधारा की मुखालफत करेगा, ऐसे ही मारा जाएगा !
    (5)(1)
    Reply
    1. D
      Devraj
      Oct 3, 2017 at 12:19 am
      चुप भोश्रीके....
      (0)(0)
      Reply
    2. M
      manish agrawal
      Oct 2, 2017 at 9:21 pm
      ऑस्ट्रेलियन पत्रकार साहब ! यदि बीजेपी के हिन्दोस्तान में पत्रकारिता करनी है तो ये छापना पड़ेगा की एटमी हथियार , वास्तव में पौराणिक ब्रह्मास्त्र है और एल्बर्ट आइंस्टीन ने इसको बनाने का फार्मूला हमारे वेदों से ही लिया था !
      (3)(1)
      Reply
      1. D
        Devraj
        Oct 3, 2017 at 12:20 am
        चुप टके
        (0)(1)
        Reply
      2. M
        manish agrawal
        Oct 2, 2017 at 9:20 pm
        ऑस्ट्रेलियन पत्रकार साहब ! यदि बीजेपी के हिन्दोस्तान में पत्रकारिता करनी है तो बेशक बोइंग कंपनी के बने जेट विमानों में यात्रा करिये लेकिन तारीफ़ mythological पुष्पक विमान की कीजिये !
        (2)(1)
        Reply
        1. D
          Devraj
          Oct 3, 2017 at 12:21 am
          चुप े
          (1)(0)
          Reply
          1. D
            Devraj
            Oct 3, 2017 at 12:21 am
            चुप भोश्रीके
            (1)(0)
            Reply
          2. M
            manish agrawal
            Oct 2, 2017 at 9:18 pm
            ऑस्ट्रेलियन पत्रकार साहब ! यदि बीजेपी के हिन्दोस्तान में पत्रकारिता करनी है तो बम और मिसाइलों से नहीं बल्कि वेदमंत्रों से चीन के मुकाबले की बात छापिए !
            (2)(1)
            Reply
            1. D
              Devraj
              Oct 3, 2017 at 12:22 am
              चुप भोश्रीके
              (1)(0)
              Reply
            2. M
              manish agrawal
              Oct 2, 2017 at 9:17 pm
              ऑस्ट्रेलियन पत्रकार साहब ! यदि बीजेपी के हिन्दोस्तान में पत्रकारिता करनी है तो रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी से नहीं बल्कि गौमूत्र से कैंसर के इलाज की बात छापिए !
              (2)(1)
              Reply
              1. D
                Devraj
                Oct 3, 2017 at 12:23 am
                चुप भोश्रीके
                (1)(0)
                Reply
              2. M
                manish agrawal
                Oct 2, 2017 at 7:43 pm
                Dear Australian journalists ! You are really lucky ! Unfortunately, few Indian Journalists i.e.Gauri Lankesh, M.M.Kalburgi, Govind Pansaare, Shantnu Bhaumik and Narendra Dabholkar were not so lucky ! They, all were assasinated in BJP led India !
                (0)(1)
                Reply
                1. D
                  Devraj
                  Oct 3, 2017 at 12:23 am
                  चुप भोश्रीके
                  (1)(0)
                  Reply
                2. Load More Comments