ताज़ा खबर
 

गुरमेहर कौर के समर्थन में उतरे गौतम गंभीर, कहा- मिलकर मजाक उड़ाना घिनौना

यह विवाद गुरमेहर कौर के एक पोस्ट के बाद शुरु हुआ जिसमें कौर ने लिखा था कि ‘पाकिस्तान ने मेरे पिता को नहीं मारा बल्कि युद्ध ने मारा'।

क्रिकेटर गौतम गंभीर ने अपने ट्वीट में एक विडियो पोस्ट किया है जिसमें कहा गया है कि, ‘इंडियन आर्मी के लिए मेरे मन में बहुत ज्यादा सम्मान है। (photo source- Indian Express)

दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा। कई बड़े चेहरो के बाद अब गौतम गंभीर ने इस मामले में ट्वीट करके कहा है कि हर किसी को अपनी बात कहने का हक है और मिलकर उसका मजाक उड़ाना घिनौना है। बता दें इस मामले में वीरेंद्र सहवाग, ओलंपिक चैंपियन योगेश्वर दत्त, रणदीप हुड्डा और  फोगाट बहनें भी इस मामले में डीयू स्टूडेंट गुरमेहर कौर के पोस्ट की आलोचना कर चुके हैं। यह विवाद गुरमेहर कौर के एक पोस्ट के बाद शुरु हुआ जिसमें कौर ने लिखा था कि ‘पाकिस्तान ने मेरे पिता को नहीं मारा बल्कि युद्ध ने मारा’। इस पर सहवाग ने इस तस्वीर की ट्वीट की जिसमें उन्होंने एक तख्ती पकड़ रखी है जिसपर लिखा था, ‘मैंने दो तिहरे शतक नहीं बनाए, मेरे बल्ले ने बनाए।’

क्रिकेटर गौतम गंभीर ने अपने ट्वीट में एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें कहा गया है कि, ‘इंडियन आर्मी के लिए मेरे मन में बहुत ज्यादा सम्मान है। देश के लिए उनकी सेवा अतुलनीय है। हाल की घटनाओं से मुझे निराशा हुई है। हम एक आजाद देश में रहते हैं, जहां हर किसी को अपनी बात रखने का अधिकार है। अगर कोई लड़की, जिसने अपने पिता को खोया हो, शांति कायम होने की अपील करते हुए कोई पोस्ट करती है तो इसका अधिकार है। यह दूसरे लोगों के लिए यह दिखाने का मौका नहीं बनना चाहिए कि वे कितने देशभक्त हैं या उन्हें मिलकर उसका मजाक नहीं उड़ाना चाहिए। हर आम नागरिक की तरह उसे अपनी राय रखने का अधिकार है। शायद हर कोई इस बात से सहमत ना हो, लेकिन उसका मजाक उड़ाना घिनौना है।’

ओलंपिक चैंपियन योगेश्वर दत्त ने केआरके के जवाब में एक ट्वीट किया था जिसमें लिखा था कि, ”लो भाई इन्होंने तो हमारी क़ीमत भी लगा दी. कल तक “Hardly literate” तो थे ही आज “दो कौड़ी” के हो गए । कितना होता है दो कौड़ी? मैंने देखा नहीं।”

मामला बढ़ता देख सहवाग ने इस मामले पर अपनी सफाई देते हुए ट्वीट किए हैं। सहवाग ने लिखा कि,” उनका ट्वीट मजाकिया था। उसका मकसद किसी को उसकी राय रखने के लिए धमकाना नहीं था।

वीरेन्द्र सहवाग ने गुरमेहर कौर से जुड़े सवालों को किया नजरअंदाज

DU बचाओ कैंपेन से अलग हुई गुरमेहर कौर; कहा- "मुझे अकेला छोड़ दो"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App