ताज़ा खबर
 

क्रोएशिया का उदाहरण देकर ‘हिन्‍दू-मुस्लिम’ करने वालों पर भड़के हरभजन, बोले- सोच बदलो, देश बदलेगा

रविवार को फीफा 2018 का फाइलन मुकाबला खेला गया। रूस के मॉस्को शहर स्थित लुजनिकी स्टेडियम में आयोजित इस मैच में फ्रांस ने 4-2 से क्रोएशिया को मात दे दी। क्रोएशिया की टीम भले ही फाइलन हार गई, मगर उसके प्रदर्शन ने सभी को प्रभावित किया।

भारतीय क्रिकेट टीम के गेंदबाज हरभजन सिंह। (फोटोः बीसीसीआई)

भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह हिंदू-मुस्लिम के मसले को लेकर राजनीति करने और माहौल खराब करने वालों पर जमकर भड़के। रविवार (15 जुलाई) को उन्होंने फीफा 2018 में क्रोएशिया टीम का उदाहरण देते हुए धर्म के नाम पर लड़ने वालों को हिदायत दी। कहा, “क्रोएशिया वर्ल्ड कप का फाइनल खेलेगा और हम हिंदू-मुसलमान खेल रहे हैं। सोच बदलो, देश भी बदलेगा।”

भज्जी ने इसी को लेकर ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, “लगभग 50 लाख की आबादी वाला देश क्रोएशिया फुटबॉल वर्ल्ड कप का फाइनल खेलेगा और हम 135 करोड़ लोग हिंदू- मुसलमान खेल रहे हैं। सोच बदलो, देश बदलेगा। (हैश टैग में)” टर्बनेटर के इस ट्वीट पर लोगों ने जमकर उनकी तारीफ की है।

रविवार को फीफा 2018 का फाइलन मुकाबला खेला गया। रूस के मॉस्को शहर स्थित लुजनिकी स्टेडियम में आयोजित इस मैच में फ्रांस ने 4-2 से क्रोएशिया को मात दे दी। क्रोएशिया की टीम भले ही फाइलन हार गई, मगर उसके प्रदर्शन ने सभी को प्रभावित किया है। वह इसी के साथ फुटबॉल विश्व कप खेलने वाला सबसे युवा देश बन गया है।

आपको बता दें कि लगभग 50 लाख की आबादी वाला क्रोएशिया साल 1991 में बतौर राष्ट्र अस्तित्व में आया। सात सालों बाद साल 1998 में उसने इस खेल में डेब्यू किया। उस साल टीम सेमीफाइनल तक पहुंच गई थी।

भज्जी सोशल मीडिया पर खासा सक्रिय रहते हैं। समय-समय पर वह न केवल क्रिकेट पर अपनी राय जाहिर करते हैं, बल्कि सामाजिक मुद्दों पर भी बेबाक टिप्पणी देते हैं। उन्होंने इसके अलावा फ्रांस के वर्ल्ड चैंपियन बनने की तारीफ भी की।

भारतीय स्पिनर के अलावा पुदुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी ने फ्रांस की जीत पर वहां फुटबॉल को बढ़ावा देने की बात पर जोर दिया। वॉट्सऐप ग्रुप पर उन्होंने पत्रकारों से कहा, “हम इस जीत को भुनाते हुए केंद्र शासित प्रदेश में गांवों, कस्बों और शहरों के बीच फुटबॉल टूर्नामेंट आयोजित कर इस खेल को प्रोत्साहित कर सकते हैं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App