scorecardresearch

मोदी जी ने किया है, सोच समझ कर किया होगा- 5 महीनों में 4 बार बढ़े बिजली के दाम तो लोग ऐसे लेने लगे मजे

गुजरात में पिछले पांच महीने में चार बार बिजली पर सरचार्ज बढ़ा दिया गया है। सोशल मीडिया पर लोगों ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मोदी जी ने किया है तो कुछ सोच समझकर ही किया होगा।

Narendra Modi, Gujarat, Electric
पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस/फाइल)

देश के कई राज्यों में बिजली के दाम में लगातार बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। गुजरात सरकार ने एक बार फिर बिजली पर सरचार्ज बढ़ा दिया है। इससे लोगों पर महंगाई की एक और मार पड़ी है। अब गुजरात में सरकार ने बिजली पर सरचार्ज बढ़ाकर 2.5₹ प्रति यूनिट कर दिया है। सरकार ने पिछले 5 महीनों में चौथी बार सरचार्ज बढाया है। हालांकि कृषि क्षेत्र के उपभोक्ताओं को इस मूल्य वृद्धि से बाहर रखा गया है।

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, गुजरात विद्युत निगम लिमिटेड की तरफ से कहा गया है कि नया फ्यूल सरचार्ज 1 मई 2022 से प्रभावी माना जाएगा और इसकी रिकवरी मई-जून 2022 के मध्य की जाएगी। सरकार पिछले 5 महीने में 4 बार फ्यूल सरचार्ज में वृद्धि कर चुकी है। वहीं, पिछले 2 महीने में यह 30 पैसे बढ़ा है। जानकारों का कहना है कि गुजरात सरकार दावा करती है कि वहां पर बिजली के दामों में 6 साल बढ़ोत्तरी नहीं की गई है लेकिन सरचार्ज बढ़ाकर बिजली महंगी की जा रही है।

गुजरात में बिजली पर सरचार्ज बढ़ाए जाने पर सोशल मीडिया पर लोग अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। दीप प्रकाश पंत नाम के यूजर ने लिखा कि ‘बस 6 महीने और हैं, उसके बाद गुजरात की जनता को भी मुफ्त बिजली मिलेगी।’ दुर्गेश सिंह चौहान नाम के यूजर ने लिखा कि ‘बहुत अच्छा, पैसा कहां से आएगा कोयला खरीदने के लिए? पैसे पेड़ पर नहीं लगते, तब लोगों की आय कम थी और आज 8 साल बाद आय भी तो बढ़ी है।’

श्रवण शर्मा नाम के यूजर ने लिखा कि ‘मोदी जी ने किया है तो कुछ सोच समझ कर ही किया होगा, इसका फायदा भाजपा चुनाव में उठा सकती है!’ आरिफ खान नाम के यूजर ने लिखा कि ‘देश बदल रहा हैं, विकाश की गंगा बह रही है। जिस कांग्रेस को कोसते थे लोग महंगाई डायन बोल कर, अब तो उससे ज्यादा हर चीज महंगी हो गई है।

हरीश नाम के यूजर ने लिखा कि ‘गुजरात में 30 साल से 24 घंटे बिजली दे रहे हैं, 2.5 रुपये से क्या फर्क पड़ेगा।’ राजा तिवारी नाम के यूजर ने लिखा कि ‘गुजरात के गरीबों को महंगाई के साथ बिजली का सरचार्ज बढ़ाकर गर्मी से मारने का इरादा है?’ राजकुमार विश्नोई नाम के यूजर ने लिखा कि ‘पहले कोयला संकट दिखाकर अफरातफरी मचाई, फिर सरचार्ज बढ़ा दिया, कंपनी राज इसे ही कहते हैं।’

संदीप यादव नाम के यूजर ने लिखा कि ‘आग लगी है तो जलेगा घर सबका, यहां मकान सिर्फ मेरा थोड़ी है।’ दर्शन नाम के यूजर ने लिखा कि ‘वहां तो सारे अमीर हैं, गरीब और मध्यम वर्ग तो हैं ही नहीं। क्या फर्क पड़ता है?’ पिंटू नाम के यूजर ने लिखा कि ‘गुजरात की जनता तो अमीर है। गुजरात माडल के चर्चे आम हैं। चार गुजराती देश चला रहे हैं। दुनिया के सबसे अमीर भारतीय गुजराती हैं। गुजरात में तो सरचार्ज ₹25 बढ़ना चाहिए।’

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.