scorecardresearch

रेपिस्ट की भाषा बोलना बंद करना चाहिए- सीएम अशोक गहलोत के बयान पर भड़कीं महिला आयोग की अध्यक्ष

अशोक गहलोत ने रेपिस्ट को लेकर बयान दिया था। इस पर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भड़क गईं हैं।

रेपिस्ट की भाषा बोलना बंद करना चाहिए- सीएम अशोक गहलोत के बयान पर भड़कीं महिला आयोग की अध्यक्ष
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (PTI photo)

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत अपने ही एक बयान को लेकर विवादों में आ गए हैं। अशोक गहलोत ने रेपिस्ट को लेकर बयान दिया था। इस पर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भड़क गईं हैं। उन्होंने अशोक गहलोत को जवाब देते हुए कहा है कि उन्हें रेपिस्ट की भाषा नहीं बोलनी चाहिए।

अशोक गहलोत पर भड़कीं स्वाति मालीवाल

स्वाति मालीवाल ने कहा कि ‘अशोक गहलोत जी को रेपिस्ट की बाशा बोलना बंद करना चाहिए। उन्होंने निर्भया जो मजाक उड़ाया है उससे कहीं ना कहीं देश की रेप पीडिताओं का हौसला टूटा है। हमने अनशन करके कानून बनवाया है कि छोटी बच्चियों के साथ रेप करने वालों को फांसी की सजा मिले। उन्हें इस कानून का कड़ाई से पालन करवाना चाहिए न कि फालतू की बयानबाजी करनी चाहिए।’

‘नियमों का पालन करवाएं, बयानबाजी से बचें’

उन्होंने आगे कहा कि ‘देश के प्रधानमंत्री को कई बार पत्र लिखा है कि ऐसा कानून बने कि कोई नेता जब महिला विरोध एक्शन करें या बयान दें तो उन पर और कड़ी कार्रवाई हो। अशोक गहलोत जी राजस्थान के मुख्यमंत्री हैं उनके ऊपर बड़ी जिम्मेदारी है, राजस्थान में रेप बड़ी संख्या में होते हैं तो उन्हें नियमों का कड़ाई से पालन करना चाहिए नाकि बयानबाजी करनी चाहिए।’

क्या बोले थे सीएम अशोक गहलोत?

बता दें कि राजस्थान सीएम अशोक गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि ‘देश में तमाम तरफ के अपराध बढ़ते जा रहे हैं। बच्चियों से रेप के मामले भी बढ़ रहे हैं लेकिन जब से दोषियों को फांसी की सजा देने का कानून आया है तब ये रेप के बाद हत्या के मामलों में और बढ़ोत्तरी हुई है। हालांकि जब अशोक गहलोत महिलाओं के प्रति होने वाले दुराचार पर बात कर थे। इसी दौरान वह देश को झकझोर देने वाली घटना ‘निर्भया कांड’ का नाम भूल गये। इस पर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने जवाब दिया है।

वहीं भाजपा नेता शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि ‘गहलोत ने बलात्कारियों को नहीं सख्त दुष्कर्म कानूनों को दोषी ठहराया! उन्होंने कहा- निर्भया के बाद कानून सख्त होने से रेप से संबंधित हत्याएं बढ़ीं। ऐसा पहला बयान नहीं, उन्होंने यह भी कहा है कि बलात्कार के ज्यादातर मामले फर्जी हैं! उनके मंत्री ने कहा मुर्दों का प्रदेश है इसलिए बलात्कार होते हैं लेकिन प्रियंकाजी चुप हैं?’

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट