ताज़ा खबर
 

AAP ने फिल्मी वीडियो से किया सुप्रीम कोर्ट पर वार, संजय सिंह ने पूछा- कोर्ट ने गरिमा खत्म कर दी?

बुधवार (13 फरवरी, 2019) को आप के टि्वटर हैंडल से #DelhiVsCenter #Services संग ट्वीट सनी देओल की फिल्म का वीडियो ट्वीट किया गया था।

Author February 14, 2019 5:16 PM
केंद्र बनाम दिल्ली के मुद्दे पर सिंह ने आप के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए सुप्रीम कोर्ट पर जुबानी वार किया है। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

प्रशासनिक कामकाज के अधिकारों को लेकर केंद्र बनाम दिल्ली सरकार की जंग पर आम आदमी पार्टी (आप) ने फिल्मी वीडियो से सुप्रीम कोर्ट पर जुबानी वार किया। क्लिप के जरिए आप ने सवाल किया था कि तारीख पर तारीख कब तक दी जाती रहेंगी? वहीं, पार्टी नेता संजय सिंह ने उसी वीडियो को रीट्वीट करते हुए पूछा कि कोर्ट ने गरिमा खत्म कर दी है क्या?

बुधवार (13 फरवरी, 2019) को आप के टि्वटर हैंडल से #DelhiVsCenter #Services संग ट्वीट सनी देओल की फिल्म का वीडियो ट्वीट किया गया था। लिखा गया था, “तारीख पर तारीख…।” दरअसल, यह क्लिप सनी की फिल्म दामिनी से जुड़ी थी। सनी उसमें कोर्ट रूम में जज के सामने न्याय न मिलने को लेकर नाराजगी जता रहे थे और कह रहे थे- तारीख पर तारीख, तारीख पर तारीख…। देखें, वीडियो-

संजय सिंह ने इसके बाद आप के इसी वीडियो वाले ट्वीट को रीट्वीट किया और लिखा, “क्या सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सारी गरिमा समाप्त कर दी है? न्याय में देर न्याय नहीं है। जज को जनता भगवान मानती है, पर भगवान भी इंसाफ करने में विफल हैं।” यह रहा सिंह का ट्वीट-

क्या है पूरा मामला?: दिल्ली का असली बॉस कौन है? इसी को लेकर लेफ्टिनेंट जनरल (एलजी) और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीचे लंबे समय से तनातनी रही है। 2018 में कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद निर्णय सुरक्षित रख लिया था। उसी दौरान दिल्ली सरकार के साथ याचिकाकर्ताओं ने केंद्र की उस अधिसूचना को चुनौती दी थी, जिसमें अधिकारियों के ट्रांसफर और नियुक्ति सरीखे कई मामलों में राज्य सरकार के बजाय उप-राज्यपाल को फैसला लेने का अधिकार दिया गया था।

कोर्ट ने क्या कहा ताजा फैसले में?: बुधवार को इसी पर कोर्ट का फैसला आया, जिसमें कहा गया कि ज्वॉइंट सेक्रेट्री व उससे ऊपर के सभी अधिकारियों से जुड़े फैसले एलजी करेंगे, जबकि नीचे का अफसरों पर फैसला दिल्ली सरकार लेगी। हालांकि, एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) पर सबसे अधिक मतभेद था, लिहाजा केंद्र के पास रहने का आदेश दिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App