ताज़ा खबर
 

दिवाली में बम फोड़ने पर जेल! क्या मैं अपने भारत में ही हूं? जय श्री राम- डीसीपी ने किया ट्वीट, विवाद हुआ तो मांगी माफी

जब यह ट्वीट सोशल मीडिया में वायरल हुआ तो इस पर डीसीपी ने मांफी मांगी और ट्वीट को भी डिलीट कर दिया। सफाई पेश करते हुए उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा कि यह लापरवाही मेरी तरफ से हुई है।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। इसे देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने दिवाली पर पटाखे फोड़ने पर भी आंशिक रोक लगा दी थी। दरअसल दिल्ली एनसीआर में छोटे पटाखे फोड़ सकते थे वह भी रात को 8 बजे से 10 बजे तक। अगर कोई सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश का उल्लंघन करता पाया जाए तो उस पर कार्रवाई करने का भी आदेश दिया गया था। इस बीच दिल्ली पुलिस के डीसीपी देवेंद्र आर्य ने ट्विट किया कि दिवाली पर बम/पटाखा बजाने पे जेल हो सकती है। कभी सोचा नहीं कि ये दिन आयेगा। क्या में अपने भारत देश में ही हूं? जय श्री राम, जय हिंद। जब यह ट्वीट सोशल मीडिया में वायरल हुआ तो इस पर डीसीपी ने मांफी मांगी और ट्वीट को भी डिलीट कर दिया। सफाई पेश करते हुए उन्होंने दूसरे ट्वीट में  लिखा कि यह लापरवाही मेरी तरफ से हुई है। यह किसी तरह का विचार/बयान नहीं है। मैं इस लापरवाही के लिए माफी मांगता हूं।

इस ट्वीट पर दिल्ली पुलिस ने भी अपनी सफाई दी थी कि उसका इस ट्वीट से कोई लेना देना नहीं है। इस ट्वीट को अधिकारी ने अपने ट्विटर अकाउंट से किया है। मांफी मांगने के ट्वीट करने के बाद कई ट्विटर यूजर्स ने इस पर कमेंट भी किए। दो ट्विटर यूजर डीसीपी के इस ट्वीट पर  आपस में बहस करने लगे। एक यूजर ने लिखा यदि यह एक राय को रिफ्लेक्ट नहीं करता है तो यह क्या दर्शाता है? कृपया कम से कम सामंजस्य भाव से माफी मांगें। धन्यवाद।

@dheerajfb27 ने लिखा कि भारत में हर किसी को अपनी भावनाओं और विचारों को व्यक्त करने का अधिकार है, तो उसके ट्वीट में क्या गलत है, आप उन्हें निशाना बना रहे हैं क्योंकि वह पुलिस में हैं और आप कौन हैं जो उनसे विनम्रतापूर्वक क्षमा मांगने के लिए कह रहे हैं। धन्यवाद। इसके बाद दूसरे यूजर ने कहा कि पुलिस की चापलूसी करना बंद करो। @mlvy_prvn ने लिखा कि काम कानून के मुताबिक होना चाहिए प्रोपगेंडा के मुताबिक नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App