योगी बाबा तो रोने लगे थे..- दीपेंद्र हुड्डा की गिरफ्तारी पर यूं रिएक्ट कर रहे लोग

यूपी के लखीमपुर खीरी में हुई घटना के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे थे। रास्ते में ही यूपी पुलिस ने उन्हें रोककर हिरासत में ले लिया है।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath
योगी बाबा तो रोने लगे थे..- दीपेंद्र हुड्डा की गिरफ्तारी पर यूं रिएक्ट कर रहे लोग (फोटो सोर्स – सोशल मीडिया)

यूपी के लखीमपुर खीरी में हुए बवाल के बाद सियासी हलचल तेज हो गई है। पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे हैं विपक्षी नेताओं को यूपी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और उनके साथ सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा को भी पुलिस ने हिरासत में लिया है। दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से यह जानकारी देते हुए लिखा, जय जवान, जय किसान, जय हिंदुस्तान। पुलिस लाइन सीतापुर, पुलिस हिरासत से।

कांग्रेस सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा के इसी ट्वीट पर तमाम यूजर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जिक्र करते हुए कह रहे हैं कि वह तो रोने लगे थे। @varunchodhary टि्वटर अकाउंट से दीपेंद्र सिंह हुड्डा की तारीफ़ करते हुए लिखा गया, जज़्बा कायम है, बाबा तो रोने लगे थे UP पुलिस के डर से। एक ट्विटर अकाउंट से कमेंट आया, ये होती है असली नेता का पहचान। जो देश और देश के किसान के साथ खड़ा है।

@cadebrylin टि्वटर हैंडल से सीएम योगी आदित्यनाथ का संसद में रोने वाला वीडियो शेयर किया गया है। बता दें कि या वीडियो साल 2007 का है जब संसद में अपनी बात रखते हुए तत्कालीन गोरखपुर सांसद योगी आदित्यनाथ रोने लगे थे। उन्होंने कहा था कि उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी की सरकार उनके खिलाफ षड्यंत्र कर रही है और उन्हें जान का खतरा है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि मैं तीसरी बार गोरखपुर से लोकसभा का सदस्य बना हूं। पहली बार मैं 25 हज़ार वोटों से जीता, दूसरी बार 50 हज़ार से और तीसरी बार मैं लगभग डेढ़ लाख मतों से चुनकर आया हूं। लेकिन पिछले कुछ समय से महोदय मुझे जिस तरह से राजनीतिक विद्वेष, राजनीतिक पूर्वाग्रह का शिकार बनाया जा रहा है, मैं आपसे केवल यह अनुरोध करने आया हूं कि क्या मैं इस सदन का सदस्य हूं या नहीं हूं? और क्या ये सदन मुझे संरक्षण दे पाएगा या नहीं दे पाएगा?

सीएम योगी आदित्यनाथ के इसी वाकये पर ट्विटर यूजर कमेंट करते नजर आ रहे हैं। जानकारी के लिए बता दें कि लखीमपुर खीरी में हुई घटना को लेकर पुलिस अफसर और किसान नेता राकेश टिकैत के बीच एक समझौता हो गया है। यूपी के एडीजी लॉ एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने किसान नेता की मौजूदगी में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए यह जानकारी दी है।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट